Advertisement

Dainik Bhaskar Brings you the latest Hindi News

जेट एयरवेज/ जयपुर-मुंबई फ्लाइट में एयर प्रेशर कंट्रोल करना भूला क्रू, एक यात्री ने 30 लाख रु. मुआवजा मांगा

यात्रियों की हालत बिगड़ने के बाद उन्हें विमान में मौजूद आक्सीजन मास्क लगाए गए।

  • एक यात्री ने कहा- क्रू ने प्लेन के वापस लौटने की घोषणा की, समस्या के बारे में नहीं बताया 
  • एयरलाइन ने क्रू को हटाया, मांगी माफी

Dainik Bhaskar | Sep 20, 2018, 10:20 PM IST

मुंबई. जयपुर जा रहे जेट एयरवेज के विमान में गुरुवार सुबह करीब 30 यात्रियों ने नाक-कान से खून बहने और सिरदर्द की शिकायत की। ऐसा केबिन का एयरप्रेशर कम होने की वजह से हुआ। इसके बाद विमान को वापस मुंबई लाया गया। पांच यात्रियों का इलाज किया जा रहा है। इनमें से एक यात्री ने 30 लाख रुपए के मुआवजे की मांग की है। यात्री ने प्लेन के अंदर का वीडियो सोशल मीडिया पर शेयर करने की धमकी भी दी।

लैंडिंग से पहले आधा घंटा चक्कर लगाता रहा विमान- यात्री

  1. जेट एयरवेज ने इस मामले में क्रू की गलती मानी है और उसे जांच होने तक ड्यूटी से हटा दिया है। डीजीसीए के एक अधिकारी ने कहा- क्रू एयर प्रेशर कंट्रोल करने वाला ब्लीड स्विच ऑन करना भूल गया था, जिसकी वजह से ऐसा हुआ।

  2. फ्लाइट से सफर कर रहे मुंबई के एक प्रोफेशनल प्रशांत शर्मा ने न्यूज एजेंसी से कहा- जैसे ही विमान ने उड़ान भरी केबिन का एयर प्रेशर कम हो गया और ऑक्सीजन मास्क निकल आए। मेरे पास बैठे एक यात्री की नाक से खून निकलने लगा। कुछ ने ये भी बताया कि उनके कान में बहुत तेज दर्द हो रहा है।

  3. उन्होंने बताया- क्रू ने घोषणा की कि प्लेन वापस लौटेगा। लैंडिंग से पहले विमान करीब आधा घंटे तक चक्कर लगाता रहा। समस्या के बारे में क्रू ने कुछ नहीं बताया।

  4. मुंबई के नानावटी हॉस्पिटल के मुख्य कार्यकारी अधिकारी डॉ. राजेंद्र पाटेनकर ने कहा, "इलाज के लिए पांच यात्रियों को लाया गया। उनकी जांच की जा रही है। उन्हें भर्ती होने की जरूरत नहीं है। इस स्थिति को बैरोट्रॉमा कहते हैं। इसमें कुछ वक्त तक कम सुनाई देता है। तब तक उन्हें हवाई सफर न करने की सलाह दी जाती है।"

  5. जेट एयरवेज की फ्लाइट 9 डब्ल्यू 697 में 166 यात्री और पांच क्रू मेंबर थे। बोइंग 737 के इस विमान ने सुबह 5:53 बजे उड़ान भरी थी। जेट ने इस घटना के लिए खेद जताया है। उड्डयन मंत्रालय ने डायरेक्टर जनरल ऑफ सिविल एविएशन (डीजीसीए) से जल्द रिपोर्ट मांगी है।

  6. रद्द हो सकता है पायलट का लाइसेंस

    नागरिक उड्डयन विभाग के राजस्थान के डायरेक्टर केसरी सिंह ने दैनिक भास्कर को बताया, "ब्लीड एयर स्विच को चेक करना पायलट और क्रू टीम की ड्यूटी में शामिल होता है। इसमें भूल होना बड़ी लापरवाही है।"

  7. केसरी सिंह ने बताया, "डीजीसीए की एयर सेफ्टी टीम इसकी जांच करती है। नागर विमानन मंत्रालय का भी जांच ब्यूरो है। दोषी पाए जाने पर पायलट का लाइसेंस रद्द किया जा सकता है। यात्री एयरलाइंस से हर्जाने की मांग कर सकते हैं।"

उड़ान भरने के कुछ देर बाद ही विमान को मुंबई वापस ले आया गया।
मुंबई एयरपोर्ट पर ही यात्रियों का प्राथमिक उपचार किया गया।
जेट एयरवेज का कहना है कि आरोपी क्रू मेंबर्स को डयूटी से हटा लिया गया है।
एक्सपर्ट का कहना है कि यात्री चाहें तो एयरलाइंस से मुआवजे की मांग कर सकते हैं।
विमान में एयरप्रेशर का कम होना जानलेवा भी हो सकता है।
Advertisement

Dainik Bhaskar Brings you the latest Hindi News

Recommended

Advertisement