Advertisement

Dainik Bhaskar Brings you the latest Hindi News

सर्वे/ लोकसभा चुनाव में पहली बार वोट डालने वाले युवा मोदी-राहुल से ज्यादा रोजगार चाहते हैं

  • ब्लूमबर्ग ने अलग-अलग सर्वे के आधार पर आकलन दिया
  • 2019 के लोकसभा चुनाव में 13 करोड़ युवा पहली बार वोट डालेंगे
  • यह संख्या जापान की 12 करोड़ की आबादी से ज्यादा 

Dainik Bhaskar | Sep 19, 2018, 08:49 PM IST

नई दिल्ली.  अगले साल होने वाले लोकसभा चुनाव में पहली बार वोट डालने वाले देश के युवा ज्यादा से ज्यादा रोजगार के मौके चाहते हैं। इन युवाओं का प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को सीधा संदेश है कि उन्हें रोजगार मिले।

अगले लोकसभा में बेरोजगारी बड़ा मुद्दा बनेगा

  1. 2019 लोकसभा चुनाव में 13 करोड़ युवा पहली बार मतदान करेंगे। यह संख्या जापान की जनसंख्या से ज्यादा है। 2014 में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हर साल एक करोड़ युवाओं को रोजगार देने का वादा किया था। हालांकि, यह वादा नहीं निभाने के चलते लोकसभा चुनाव में यह मामला बड़ा मुद्दा बनेगा।

  2. ब्लूमबर्ग की रिपोर्ट के मुताबिक- आम चुनाव में अभी आठ महीने बाकी हैं। सेंटर फॉर स्टडी ऑफ डेवलपिंग सोसाइटी (सीएसडीएस) के एक सर्वे में रोजगार देने में मोदी सरकार को फेल मानने वाले लोगों की संख्या जनवरी 2018 में बढ़कर 29% हो गई। पहले यह संख्या 22% थी। 

  3. लंदन के किंग्स कॉलेज में अंतरराष्ट्रीय संबंधों के प्रोफेसर हर्ष पंत ने कहा, ‘युवा निश्चित ही अहम होंगे। आने वाले चुनाव में रोजगार का मुद्दा मोदी को नुकसान पहुंचाएगा। हालांकि, यह भी सही है कि युवाओं के बीच वे भारत में अन्य नेताओं के मुकाबले ज्यादा लोकप्रिय रहेंगे।’

  4. 2016 में हुए एक सर्वे के मुताबिक, बेरोजगारी युवाओं की प्रमुख चिंता है। 18% लोग नौकरी और बेरोजगारी को 12% आर्थिक असामनता और नौ फीसदी भ्रष्टाचार को भारत में सबसे अहम समस्या मानते हैं।

  5. मोदी के कार्यकाल में कितने लोगों को नौकरियां मिलीं? डाटा न होने की वजह से ये आंकड़े बता पाना असंभव है। हालांकि, सरकार स्किल ट्रेनिंग और स्टार्टअप शुरू करने के लिए युवाओं को दिए गए ऋण को अपनी कामयाबी बताती है।

  6. सेंटर फॉर मॉनिटरिंग इंडियन इकोनॉमी के हाल ही में जारी किए गए आंकड़ों के मुताबिक, अगस्त में बेरोजगारी दर 6.32% थी। पिछले एक साल में सबसे ज्यादा।

  7. मोदी युवाओं के मस्कट : भाजपा

    भाजपा के युवा मोर्चा के उपाध्यक्ष हर्ष सांघवी के मुताबिक, ‘बेरोजगारी की मौजूदा स्थिति में सुधार का इंतजार कर रहा हूं। निश्चित तौर पर मेरा वोट भाजपा को ही जाएगा, क्योंकि मौजूदा सरकार ने इस स्थिति को बदलने का वादा किया है। भाजपा को भरोसा है कि युवा अब भी मोदी सरकार में अपना और देश का भविष्य देखते हैं। वे युवाओं के मस्कट हैं।’

  8. युवा बदलाव चाहते हैं : कांग्रेस

    कांग्रेस देश में बेरोजगारी और बढ़ती सामाजिक समस्याओं को अगले चुनाव में भुनाना चाहती है। यूथ कांग्रेस के उपाध्यक्ष श्रीनिवास बीवी के मुताबिक, ‘बढ़ती बेरोजगारी से सरकार के खिलाफ युवाओं में गुस्सा है। देश में असहिष्णुता और घृणा फैल रही है। युवाओं ने वास्तविकता का सामना किया और वे बदलाव चाहते हैं।’