Dainik Bhaskar Brings you the latest Hindi News

सांगली लोकसभा सीट / 52 साल तक यहां रहा कांग्रेस का कब्जा, इमरजेंसी में भी नहीं लगी इस किले में सेंध

  • सांगली शहर हल्दी उत्पादन के लिए पूरे देश में मशहूर है
  • 1962 से 2014 के बीच 52 वर्षों तक इस सीट पर कांग्रेसका कब्जा रहा

Dainik Bhaskar

Apr 21, 2019, 04:43 AM IST

सांगली. महाराष्ट्र के प्रमुख शहरों में से एक सांगली कृष्णा नदी के किनारे स्थित है। सांगली शहर हल्दी उत्पादन के लिए पूरे देश में मशहूर है इसके अलावा इस शहर में सूती वस्त्र, तेल मिलें, पीतल और तांबे के सामान के निर्माण से जुड़े कारखानें हैं। 1962 से 2014 के बीच 52 वर्षों तक इस सीट पर कांग्रेसका कब्जा रहा। यहां तक कि आपातकाल के बाद जब कांग्रेस के बुरे दिन थे तब भी इस सीट से कांग्रेस प्रत्याशी को ही जीत मिली।पहले यह मिरज सीट कहलाती थी लेकिन 1967 में इसका नाम सांगलीहो गया था।

12 उम्मीदवारों के बीच इस बार है लड़ाई

यहां से 12 उम्मीदवार चुनाव मैदान में उतरे हैं। भारतीय जनता पार्टी ने अपने मौजूदा सांसद संजय रामचंद्र पाटिल को उम्मीदवार बनाया है तो वहीं कांग्रेस ने अपने सहयोगी स्वाभिमानी शेतकारी संगठन (एसएसएस) को यह सीट दे दी है। स्वाभिमानी पक्ष की ओर से विशाल प्रकाशराव चुनाव लड़ रहे हैं।वहीं बहुजन समाज पार्टी (बसपा) से शंकर मार्तंड, वंचित बहुजन आघाडी से गोपीचंद कुंडलीक पालकर और बहुजन मुक्ति मोर्चा से राजेंद्र नामदेव उम्मीदवार हैं। यहां से 6 निर्दलीय प्रत्याशी भी चुनाव लड़ रहे हैं।


2014 का चुनावी गणित

यहां से मौजूदा सांसद भाजपा के संजय काका पाटिल हैं। 2014 के चुनाव में उन्होंने यहां पर पूर्व केन्द्रीय मंत्री और कांग्रेस नेता प्रतीक प्रकाश बापू पाटिल को 239, 292 वोटों से पराजित किया था। संजय काका पाटिल को यहां 611, 563 वोट हासिल हुए थे तो वहीं प्रतीक प्रकाश बापू पाटिल को 372,271 वोटों पर संतोष करना पड़ा था। इस सीट पर नंबर दो पर कांग्रेस और नंबर 3 पर बसपा थी।

6 विधानसभा से मिलकर बनी सांगली

सांगली संसदीय सीट के अंतर्गत विधानसभा की 6 सीटें आती हैं। जिसमें मिरज, सांगली, जाठ में बीजेपी, खानपुर में शिवसेना, फालुस काडेगांव में कांग्रेस और तासगांव-कवाथे महाकाल से एनसीपी के विधायक हैं।

21.4 लाख है यहां की जनसंख्या

सांगली की आबादी 21,47,432 है, जिसमें से 71 प्रतिशत लोग ग्रामीण और 28 प्रतिशत शहरी हैं। यहां पर 12 प्रतिशत जनसंख्या SC और 0.68 प्रतिशत लोग ST वर्ग के हैं।

वर्तमान सांसद का रिपोर्ट कार्ड

दिसंबर 2018 की रिपोर्ट के मुताबिक पिछले 5 सालों के दौरान लोकसभा में संजय काका पाटिल की उपस्थिति 57 प्रतिशत रही है और इस दौरान उन्होंने 12 डिबेट में हिस्सा लिया है और 200 प्रश्न पूछे हैं।

सांगली लोकसभा सीट का इतिहास

साल सांसद पार्टी
1957 बलवंत पाटील PWPI
1962 विजयसिंहराव इंडियन नेशनल कांग्रेस
1967 एसडी पाटील इंडियन नेशनल कांग्रेस
1971 गणपति टी गोटखिंडे इंडियन नेशनल कांग्रेस
1977 गणपति टी गोटखिंडे इंडियन नेशनल कांग्रेस
1980 वसंतदादा पाटील इंडियन नेशनल कांग्रेस
1984 प्रकाशबापू वसंतदादा पाटील इंडियन नेशनल कांग्रेस
1989 प्रकाशबापू वसंतदादा पाटील इंडियन नेशनल कांग्रेस
1991 प्रकाशबापू वसंतदादा पाटील इंडियन नेशनल कांग्रेस
1996 मदन पाटील इंडियन नेशनल कांग्रेस
1998 मदन पाटील इंडियन नेशनल कांग्रेस
1999 प्रकाशबापू वसंतदादा पाटील इंडियन नेशनल कांग्रेस
2004 प्रकाशबापू वसंतदादा पाटील इंडियन नेशनल कांग्रेस
2006(उपचुनाव) प्रतीक पाटील इंडियन नेशनल कांग्रेस
2009 प्रतीक पाटील इंडियन नेशनल कांग्रेस
2014 संजयकाका पाटील भारतीय जनता पार्टी
Share
Next Story

आर्थिक संकट / जेटली से मिला जेट का स्टाफ, सीईओ ने कहा- एयरलाइन में 4 पार्टियों ने दिलचस्पी दिखाई

Next

Dainik Bhaskar Brings you the latest Hindi News