डिजिटल पेमेंट / एसबीआई की डेबिट कार्ड को सिस्टम से बाहर करने की योजना, योनो ऐप को विकल्प बताया

  • बैंक 68 हजार योनो कैशप्वाइंट लगा चुका, 18 महीने में 10 लाख का लक्ष्य
  • देश में करीब 90 करोड़ डेबिट और 3 करोड़ क्रेडिट कार्ड
  • एसबीआई के चेयरमैन ने वर्चुअल कूपन को भविष्य बताया

Dainik Bhaskar

Aug 20, 2019, 02:16 PM IST

मुंबई. देश का सबसे बड़ा बैंक एसबीआई डेबिट कार्ड्स को सिस्टम से बाहर करना चाहता है। बैंक के चेयरमैन रजनीश कुमार ने सोमवार को एक इवेंट में ऐसा कहा। इस मकसद में कामयाब होने का भरोसा भी जताया। डिजिटल पेमेंट के विकल्पों को बढ़ावा देने के लिए एसबीआई देश को प्लास्टिक कार्ड से मुक्त करना चाहता है।

डिजिटल पेमेंट प्लास्टिक कार्ड का विकल्प बनेंगे

  1. रजनीश कुमार ने बताया कि देश में करीब 90 करोड़ डेबिट कार्ड और 3 करोड़ क्रेडिट कार्ड हैं। उन्होंने डेबिट कार्ड को खत्म करने के लिए एसबीआई के योनो प्लेटफॉर्म जैसे डिजिटल समाधानों का जिक्र किया।

  2. एसबीआई के चेयरमैन ने बताया कि योनो के जरिए एटीएम से कैश विड्रॉल किया जा सकता है। बिना कार्ड रखे खरीदारी की जा सकती है। उन्होंने बताया कि एसबीआई 68 हजार योनो कैशप्वाइंट सेट कर चुका है। अगले 18 महीने में ये संख्या 10 लाख पहुंचाने की प्रक्रिया जारी है। इससे कार्ड की जरूरत काफी कम रह जाएगी।

  3. रजनीश कुमार के मुताबिक योनो प्लेटफॉर्म चुनिंदा वस्तुओं की खरीदारी के लिए क्रेडिट भी उपलब्ध करवा सकती है। इसके क्रेडिट कार्ड को सिर्फ स्टैंड बाय के तौर पर रखने की जरूरत रहेगी।

  4. कुमार का कहना है कि अगले 5 साल में प्लास्टिक कार्ड रखने की जरूरत काफी कम रह जाएगी। उन्होंने वर्चुअल कूपन को ट्रांजेक्शंस का भविष्य बताया। साथ ही कहा कि इस वक्त क्यूआर कोड भी पेमेंट्स के लिए काफी सस्ता तरीका है।

Share
Next Story

चेन्नई / तीन तटों पर समुद्र के पानी में नीली रोशनी वाली लहरें दो घंटे तक दिखीं, लोग भागे

Next

Dainik Bhaskar Brings you the latest Hindi News