रिपोर्ट / अजीम प्रेमजी यूनिवर्सिटी का दावा- नोटबंदी की वजह से 50 लाख लोगों को गंवानी पड़ी नौकरी

प्रतीकात्मक फोटो

  • स्टेट ऑफ वर्किंग इंडिया रिपोर्ट में 2016-18 के बीच के हालात का जिक्र
  • युवाओं को भुगतना पड़ा नोटबंदी का सबसे ज्यादा खामियाजाः रिपोर्ट

Dainik Bhaskar

Apr 17, 2019, 03:00 PM IST

नई दिल्ली. अजीम प्रेमजी यूनिवर्सिटी ने दावा किया है कि नोटबंदी के बाद देश में 50 लाख लोगों को अपनी नौकरी गंवानी पड़ी। युवाओं पर इसका सबसे ज्यादा असर पड़ा। स्टेट ऑफ वर्किंग इंडिया रिपोर्ट में 2016-18 के बीच के समय का जिक्र किया गया है। रिपोर्ट में कहा गया है कि नौकरियों के पतन की शुरुआत नोटबंदी से जुड़ी है। हालांकि, यूनिवर्सिटी अपने दावे को लेकर कोई ऐसा तथ्य पेश नहीं कर सकी, जिससे कहा जा सके कि नोटबंदी और नौकरी जाने के बीचसीधा संबंध है।

सीएमआई-सीपीडीएक्स डेटा से तैयार की रिपोर्ट

  1. प्रेमजी यूनिवर्सिटी ने अपनी रिपोर्ट तैयार करने के लिए सीएमआई-सीपीडीएक्स डेटा का इस्तेमाल किया। इसमें कहा गया है कि देश में जो बेरोजगारों की संख्या है, उसमें सबसे ज्यादा युवा हैं। 

  2. रिपोर्ट में कहा गया है कि रोजगार के मामले में पुरुषों की अपेक्षा महिलाओं की स्थित कमजोर है। महिलाओं की बेरोजगारी दर पुरुषों की तुलना में ज्यादा है। नौकरियों में उनकी भागीदारी पहले से ही कम है। 

  3. यूनिवर्सिटी ने दावा किया है कि 2011 के बाद बेरोजगारी की दर में ज्यादा बढ़ोतरी हुई। पीरियॉडिक लेबर सर्वे और सीएमआई-सीपीडीएक्स का डेटा कहता है कि 2018 में बेरोजगारी की दर 6 फीसदी रही, जबकि 2000-2011 के बीच में यह लगभग 3 फीसदी थी। 

  4. शहरी महिलाएं जो ग्रेजुएट हैं, उनमें से केवल 10 फीसदी के पास ही रोजगार है, जबकि 34 फीसदी को बेरोजगारी का दंश झेलना पड़ रहा है। 20-24 आयु वर्ग में बेरोजगारी की दर सबसे ज्यादा है। शहरी पुरुष जो ग्रेजुएट हैं, उनमें 20-24 आयु वर्ग में केवल 13.5 फीसदी के पास ही रोजगार है। जबकि 60 फीसदी बेरोजगारी की मार झेलने को विवश हैं। 
     

  5. 8 नवंबर 2016 को नोटबंदी लागू की गई थी

    मोदी सरकार ने देश में 8 नवंबर 2016 को नोटबंदी लागू की थी। इससे आतंकवाद, भ्रष्टाचार और कालेधन खत्म होने का दावा किया गया था, लेकिन अजीम प्रेमजी यूनिवर्सिटी की रिपोर्ट सरकार के दावे की हवा निकाल दी है। 

Share
Next Story

हैप्पी वैलेंटाइन डे / वैलेंटाइन डे स्पेशल ऑफर के टॉप 15 मैसेज पब्लिश

Next

Dainik Bhaskar Brings you the latest Hindi News