Advertisement

Dainik Bhaskar Brings you the latest Hindi News

ईवीएम/ साइबर एक्सपर्ट पर एफआईआर हो: चुनाव आयोग; भाजपा ने सिब्बल की भूमिका पर सवाल उठाए

Dainik Bhaskar | Jan 22, 2019, 06:11 PM IST
सिम्बॉलिक फोटो।

  • एक साइबर एक्सपर्ट ने लंदन में प्रेस कॉन्फ्रेंस कर 2014 के लोकसभा चुनाव में ईवीएम के जरिए धांधली का आरोप लगाए
  • प्रसाद ने कहा-  ईवीएम हैक का कार्यक्रम कांग्रेस प्रायोजित, सिब्बल मॉनिटरिंग कर रहे थे
  • केंद्रीय मंत्री ने सवाल किया- कांग्रेस, मायावती, अखिलेश, ममता जीते तब ईवीएम ठीक थी?

नई दिल्ली. चुनाव आयोग ने इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीनों (ईवीएम) को लेकर लंदन में हुई प्रेस कॉन्फ्रेंस के मामले में दिल्ली पुलिस से एफआईआर दर्ज करने को कहा है। साथ ही आयोग ने पुलिस से कहा है कि ईवीएम हैक का दावा करने वाले साइबर एक्सपर्ट सैयद शुजा के बयान की भी जांच हो। इससे पहले केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने इस प्रेस कॉन्फ्रेंस को कांग्रेस प्रायोजित बताया। प्रसाद ने कहा- कांग्रेस नेता कपिल सिब्बल वहां पार्टी की ओर से पूरे कार्यक्रम की मॉनिटरिंग करने गए थे।Advertisement

प्रसाद ने पूछा- कपिल सिब्बल वहां क्या कर रहे थे?

  1. दरअसल, एक भारतीय साइबर एक्सपर्ट ने सोमवार को लंदन में प्रेस कॉन्फ्रेंस कर दावा किया था कि 2014 के लोकसभा चुनाव में इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीनों (ईवीएम) के जरिए धांधली की गई थी। उसका दावा था कि अगर उसकी टीम ने हैकिंग की कोशिशें नहीं रोकी होतीं तो भाजपा राजस्थान, छत्तीसगढ़ और मध्यप्रदेश का विधानसभा चुनाव आसानी से जीत जाती। इस प्रेस कॉन्फ्रेंस में कांग्रेस सांसद कपिल सिब्बल भी मौजूद थे। एक्सपर्ट ने कई दावे किए, लेकिन किसी भी दावे की पुष्टि के लिए वह सबूत नहीं दे पाया।

    Advertisement

  2. केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने सवाल किया- कपिल सिब्बल वहां क्या कर रहे थे? किस हैसियत से वे वहां मौजूद थे? सिब्बल पहले भी ऐसा करते रहे हैं। उन्होंने राम जन्मभूमि पर सुप्रीम कोर्ट में क्या-क्या बहस की, कांग्रेस ने खुद को इससे अलग नहीं किया। सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस के खिलाफ महाभियोग प्रस्ताव लाए। बाद में वापस ले लिया।

  3. 2014 में यूपीए सरकार थी तो हमने कैसे हैकिंग की- प्रसाद

    प्रसाद ने कहा, "प्रेस कॉन्फ्रेंस से पहले कहा गया था कि इसमें ईवीएम को हैक करते हुए दिखाएंगे। लेकिन कोई सबूत नहीं दिया गया। 2014 में यूपीए सरकार थी। ईवीएम की तकनीक देखने के लिए 2010 में कमेटी बनी थी। हम सरकार में नहीं थे। 10 साल कांग्रेस सत्ता में रही तो ईवीएम ठीक थी। 2007 में मायावती, 2012 में अखिलेश जीते, ममता दो बार जीतीं, केजरीवाल जीते, अमरिंदर पंजाब में जीते, केरल में कम्युनिस्ट जीते तो ईवीएम को ठीक बताया जाता है। हम जीते तो खराब बताया गया। कांग्रेस 2019 लोकसभा चुनाव में मिलने वाली हार का अभी से बहाना ढूंढ रही है। ''

  4. केंद्रीय मंत्री ने कहा, "भारत के चुनाव आयोग और लोकतंत्र की दुनियाभर में चर्चा होती है। आज कई देश भारत के प्रयोग सीखना चाहते हैं। जो पार्टी 58 साल शासन कर चुकी है, वह इस तरह के आरोप लगा रही है। ये 2014 के जनमत का अपमान है।''

  5. 'शुजा का नाम कभी नहीं सुना'

    जिस एक्सपर्ट ने ईवीएम हैक का दावा किया उसे लेकर रविशंकर प्रसाद ने कहा, "सैयद शुजा का नाम मैंने कभी नहीं सुना है। लंदन में कार्यक्रम को लेकर कहा गया था कि वह लंदन में ईवीएम को हैक करके दिखाएंगे। यह नाटक मुझे समझ नहीं आया है। वह विदेश की धरती से भारत के लोकतंत्र को बदनाम करने के लिए बकवास कर रहे हैं।

  6. चुनाव आयोग ने एक्सपर्ट के दावे को नकारा

    साइबर एक्सपर्ट के इस दावे को चुनाव आयोग ने नकार दिया है। आयोग ने कहा है कि ईवीएम ‘फुलप्रूफ’ हैं और हम गलत दावे करने वाले व्यक्ति के खिलाफ कानूनी कार्रवाई के बारे में सोच रहे हैं।

केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने मामले में कांग्रेस की भूमिका पर उठाए सवाल।
Advertisement

Dainik Bhaskar Brings you the latest Hindi News

Recommended

Advertisement