Advertisement

Dainik Bhaskar Brings you the latest Hindi News

अचानक खुदाई में मिली थी कई सौ साल पुरानी ममी, लेकिन इसकी एक अजीब बात वैज्ञानिकों के लिए बन गई पहेली

2 हजार साल पुरानी ममी को देख हैरान वैज्ञानिक बोले- ऐसा कैसे हो सकता है?

dainikbhaskar.com | Sep 12, 2018, 11:09 PM IST

बीजिंग. 2100 साल से ज्यादा वक्त से प्रिजर्व कर रखी गई एक चीनी महिला की ममी साइंटिस्ट्स के लिए पहेली बनी हुई है। खुदाई में अचानक मिली इस महिला को लेडी ऑफ दई के नाम से जाना जाता है। इसे दुनिया की सबसे अच्छे से प्रिजर्व की गई ममी माना जा रहा है। इसकी स्किन बिल्कुल सॉफ्ट हैं और हाथ-पैर मुड़ रहे हैं। उसके अंदर के ऑर्गेन से लेकर आंख की पलकें और बाल बिल्कुल ठीक हालत में हैं। वही, शरीर में खून के भी अंश मिले हैं, जिसके महिला का ब्लड ग्रुप पता किया गया।

 

हार्ट अटैक का सबसे पुराना मामला
- लेडी ऑफ दई को शिन झुई के नाम से भी जाना जाता है। इनका ताल्लुक हान डायनेस्टी (206 ई.पू. से 220 ईसवी) के दौर से था। वो मर्कुइस ऑफ दई की पत्नी थीं। 
- शिन झुई का मकबरा हुनान प्रोविन्स के चांगशा में एक हिल टाउन मवांगदुई में 1971 में तब मिला था, जब वर्कर हवाई हमले से बचने के लिए शेल्टर तलाशने के लिए खुदाई कर रहे थे। 
- शिन की अटॉप्सी में सामने आया कि वो ओवरवेट थीं। इसके साथ ही वो बैक पेन, हाई ब्लड प्रेशर, लिवर की बीमारी, स्टोन्स, डायबिटीज और हार्ट की परेशानियों से जूझ रही थीं।
- अटॉप्सी के मुताबिक, 50 साल की उम्र में शिन की हार्ट अटैक से मौत हो गई थी। साइंटिस्ट्स का मानना है कि वो हार्ट की बीमारी का सबसे पुराना मामला हैं। 
- एक्सपर्ट्स का मानना है कि इसके पीछे वजह उनकी लैविश लाइफस्टाइल थी। एक्पर्ट्स ने इसी लग्जरी लाइफस्टाइल के चलते उन्हें 'दीवा ममी' का नाम भी दिया है। 

 

100 से ज्यादा सिल्क के कपड़े मिले
जिस मकबरे से शिन की ममी 12 मीटर नीचे गहराई में दबी मिली थी, वहां वॉर्डरोब में उनके सिल्क करे 100 से ज्यादा कपड़े, 182 पीस महंगे लाख के बर्तन, मेकअप के सामान और साबुन, शैंपू, टूथपेस्ट जैसी चीजें मिली थीं। उनकी कब्र में नौकरों का सबूत देने वाली 162 नक्काशीदार लकड़ी की मूर्तियां भी थीं। 

 

20 लेयर सिल्क में लपेटी थी बॉडी
- रिकॉर्ड्स के मुताबिक, शिन झुई की बॉडी को 20 लेयर सिल्क से लपेटकर चार ऑफिन में रखा गया था। इसे पैक करने के लिए पांच टन चारकोल और चिकनी मिट्टी का इस्तेमाल किया गया था। 
- उनके मकबरे को वाटर और एयर टाइट बनाया गया था, ताकि उसमें किसी भी तरह के बैक्टीरिया दाखिल न हो सकें और ऐसा ही हुआ भी
- इसी बात को लेकर शिन की ममी अब भी साइंटिस्ट के लिए पहेली बनी हुई है कि आखिरी बॉडी को कैसे इतने अच्छे से प्रिजर्व कर रखा गया।

Advertisement

Dainik Bhaskar Brings you the latest Hindi News

टॉप न्यूज़और देखें

Advertisement

बॉलीवुड और देखें

स्पोर्ट्स और देखें

Advertisement

Dainik Bhaskar Brings you the latest Hindi News

जीवन मंत्रऔर देखें

राज्यऔर देखें

वीडियोऔर देखें

बिज़नेसऔर देखें