रसिया के किनोप्रोबा फेस्ट में दिखेगी ‘नंगे पांव के निशान’

दो फिल्मों का चयन राष्ट्रीय व अंतरराष्ट्रीय स्तर के फिल्म फेस्टिवल में हुआ है। दोनों फिल्मों को रोहतक फिल्म एंड टीवी संस्थान ने प्रोड्यूस किया है।

Bhaskar News

Nov 10, 2016, 03:37 AM IST
रोहतक.दो वर्ष पहले अंतरराष्ट्रीय स्तर पर धमाल मचाने वाली फिल्म नूरा के बाद स्टेट यूनिवर्सिटी ऑफ परफॉर्मिंग एंड विजुअल आर्ट्स (सुपवा) के फिल्म एंड टीवी संस्थान के पूर्व छात्रों की दो फिल्मों का चयन राष्ट्रीय व अंतरराष्ट्रीय स्तर के फिल्म फेस्टिवल में हुआ है। दोनों फिल्मों को रोहतक फिल्म एंड टीवी संस्थान ने प्रोड्यूस किया है।
फौजी के संघर्ष व सामाजिक ताने-बाने पर आधारित नंगे पांव के निशान का चयन दिसंबर में रसिया में होने वाले किनोप्रोबा फिल्म फेस्टिवल में हुआ है, जबकि हरियाणवी पृष्ठभूमि पर आधारित सामण फिल्म सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय द्वारा गोवा में आयोजित फिल्म फेस्टिवल में दिखाई जाएगी। रसिया में म्हारी फिल्म से ओपनिंग
रसिया में किनोप्रोबा फिल्म फेस्टिवल में विश्वभर से 15 फिल्मों का चयन किया गया है। इनमें से रोहतक फिल्म एंड टीवी संस्थान द्वारा प्रोड्यूस फिल्म नंगे पांव के निशान भारत की इकलौती चयनित फिल्म है। सबसे ज्यादा गर्व की बात यह है कि नंगे पांव के निशान फिल्म से ही फिल्म फेस्टिवल की शुरुआत होगी। इस फिल्म का चयन यूएचडी फिल्म फेस्टिवल सिओल कोरिया तथा टाटा इंस्टीट्यूट के फिल्म फेस्टिवल में भी हुआ है। फिल्म का निर्देशन संस्था के प्रथम बैच के स्टूडेंट रहे रेवाड़ी निवासी योगेश वत्स व सह निर्देशन करनाल निवासी बिल्लू पॉल ने किया है। इसके अलावा एडिटिंग के छात्र करनाल निवासी अंकित मराठा ने एडिटिंग व फिल्म छायांकन के छात्र राजस्थान निवासी सचिन यदुवंशी ने की है। इसके अलावा गोवा के फिल्म फेस्टिवल के लिए चयनित फिल्म सामण में बिल्लू पॉल ने निर्देशन तो सह निर्देशन योगेश वत्स ने किया है। सुपवा के डिजाइनिंग इंस्टीट्यूट की छात्रा कुरुक्षेत्र निवासी गीतू ने दोनों फिल्मों की पोस्टिंग डिजाइन की है। एक फौजी की कहानी : नंगे पांवों के निशान हरियाणा के एक फौजी की कहानी है, जो फौज से काफी समय बाद घर आता है। घर लौटने पर उसको समाज की काफी कुरीतियों का सामना करना पड़ता है। इन कुरीतियों में उसके परिवार को बहुत कुछ भुगतना पड़ता है। फौजी के बाप को खुदकुशी करनी पड़ती है और पत्नी को ऑनर किलिंग की भेंट चढ़ाया जाता है। निर्देशक योगेश वत्स का दावा है कि सामजिक ताने-बाने से जुड़ी यह फिल्म लोगों को झकझोर कर रख देगी।
आरक्षण आंदोलन पर बन रही अगली फिल्म
योगेश वत्स का कहना है कि वह पिछले दिनों हरियाणा में हुए आरक्षण आंदोलन पर आधारित फिल्म की स्क्रिप्ट लिख रहे हैं। रिसर्च वर्क पूरा हो चुका है। फिल्म हरियाणा में दंगों पर बनी पहली बॉलीवुड फिल्म होगी। फिल्म में कई प्रोडक्शन हाउस ने रुचि दिखाई, जिनमें से एक के साथ फिल्म करने की सहमति हो गई है। वत्स का कहना है कि फिल्म के जरिये वह दंगों की घटना को पूरी सच्चाई के साथ दिखाने का प्रयास करेंगे। यह फिल्म किसी जाति या संप्रदाय नहीं, बल्कि घटनाओं पर आधारित होगी।
Share
Next Story

सपना का बोल्ड डांस का वीडियो वायरल, बरसे इतने नोट कि जोड़ने पड़े हाथ / सपना का बोल्ड डांस का वीडियो वायरल, बरसे इतने नोट कि जोड़ने पड़े हाथ

Next

Dainik Bhaskar Brings you the latest Hindi News