Advertisement

Dainik Bhaskar Brings you the latest Hindi News

'परमवीर' संजय कुमार: खून से लथपथ थे फिर आगे बढ़े और पाकिस्तानियों को उन्ही के हथियार से दी मात

DainikBhaskar.com | Feb 19, 2018, 12:48 PM IST

पाकिस्तानियों को उन्ही के हथियार से चटाई धूल

-- पूरी ख़बर पढ़ें --

स्पेशल डेस्क: परमवीरराइफल मैन संजय कुमार, जिन्होंने कारगिल वॉर के दौरान अदम्य शौर्य का प्रदर्शन करते हुए दुश्मन को उसी के हथियार से धूल चटाई थी। लहुलुहान होने के बावजूद संजय कुमार तब तक दुश्मन से जूझते रहे थे, जब तक प्वाइंट फ्लैट टॉप दुश्मन से पूरी तरह खाली नहीं हो गया। सामने थे पाकिस्तानी, कैसे संजय ने किया सामना...

खून से लथपथ थे संजय, फिर भी लड़ते रहे
4 जुलाई 1999 को राइफल मैन संजय कुमार जब चौकी नंबर 4875 पर हमले के लिए आगे बढ़े तो एक जगह से दुश्मन ओटोमेटिक गन ने जबरदस्त गोलीबारी शुरू कर दी और टुकड़ी का आगे बढ़ना कठिन हो गया। ऐसी स्थिति में गम्भीरता को देखते हुए राइफल मैन संजय कुमार ने तय किया कि उस ठिकाने को अचानक हमले से खामोश करा दिया जाए। इस इरादे से संजय ने यकायक उस जगह हमला करके आमने-सामने की मुठभेड़ में तीन पाकिस्तानियों को मार गिराया और उसी जोश में गोलाबारी करते हुए दूसरे ठिकाने की ओर बढ़े...संजय इस मुठभेड़ में खुद भी लहू लुहान हो गए थे, लेकिन अपनी ओर से बेपरवाह वो दुश्मन पर टूट पड़े। अचानक हुए हमले से दुश्मन बौखला कर भाग खड़ा हुआ और इस भगदड़ में दुश्मन अपनी यूनीवर्सल मशीनगन भी छोड़ गए । संजय कुमार ने वो गन भी हथियाई और उससे दुश्मन का ही सफाया शुरू कर दिया। संजय के इस कारनामे को देखकर उसकी टुकड़ी के दूसरे जवान बहुत उत्साहित हुए और उन्होंने बेहद फुर्ती से दुश्मन के दूसरे ठिकानों पर धावा बोल दिया। जख्मी होने के बावजूद संजय कुमार तब तक दुश्मन से जूझते रहे थे, जब तक कि प्वाइंट फ्लैट टॉप पाकिस्तानियों से पूरी तरह खाली नहीं हो गया।

संजय को पराक्रम के लिए दिया गया परमवीर चक्र
जम्मू तथा कश्मीर राइफल्स के जवान राइफलमैन संजय कुमार को अदंभुत पराक्रम के लिए भारत सरकार की ओर से देश के सबसे बड़े सैन्य सम्मान परमवीर चक्र से नवाजा गया ।

दुश्मन को उसी के हथियार से किया मात
नायब सूबेदार संजय कुमार ने बताया कैसे किया दुश्मन का सामना