Advertisement

Dainik Bhaskar Brings you the latest Hindi News

'स्काउट से संन्यासी तक', नरेंद्र मोदी के जीवन की अनदेखी तस्वीरें

dainikbhaskar

Sep 15, 2017, 03:21 PM IST

मोदी पहले कैसे दिखते थे, एक आम इंसान के रूप में नरेंद्र मोदी की ये तस्वीरें वाकई आपको चकित कर देंगी।

-- पूरी ख़बर पढ़ें --
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का जन्मदिन 17 सितंबर को अपना 67वां जन्मदिन मना रहे हैं। इन दिनों वो गुजरात में है और गुजरात में ही अपना जन्मदिन मनाएंगे। मोदी को यूं तो आपने कई स्टाइलिश रूपों में देखा होगा लेकिन कई लोग उनके बचपन की तस्वीरों को देखने को उत्सुक रहते हैं। मोदी पहले कैसे दिखते थे, एक आम इंसान के रूप में नरेंद्र मोदी की ये तस्वीरें वाकई आपको चकित कर देंगी।
स्टेशन पर चाय बेचने वाले बच्चे से लेकर स्वंयसेवक संघ के एक कर्मठ कार्यकर्ता तक मोदी के अनेक रूप रहे जिन्हें जनता जान नहीं पाई। चूंकि नरेंद्र मोदी को फोटोग्राफी का बहुत शौक रहा इसलिए आपके सामने उनके वो रूप सामने आ पाए हैं जिन्हें देखने की जिज्ञासा लोगों के मन में रहती है। अभाव के दिनों से लेकर दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र के प्रधानमंत्री बनने तक नरेंद्र मोदी के जीवन में ऐसे कई मौके आए जब कोई आम इंसान हार मान जाता है। उनके मगरमच्छ पकड़ने से लेकर संन्यासी बनने तक कई किस्से मशहूर हैं लेकिन उनकी सत्यता परखनी मुश्किल है।दूसरी तरफ ये तस्वीरें इस बात की गवाह है कि नरेंद्र मोदी ऐसे दिखते थे और उन्होंने जीवन को इस तरह जिया।

  नरेंद्र मोदी के बचपन और जवानी की ये तस्वीरें Iindianhistorypics के ट्विटर अकाउंट से ली गई हैं। इसके अलावा सोशल मीडिया पर भी नरेंद्र मोदी की  तस्वीरें चर्चा का विषय बनती रहती हैं।   प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बचपन की एक दुर्लभ तस्वीर। बचपन की इस तस्वीर में मोदी स्काउट की ड्रेस में बैठे दिख रहे हैं।    
  साल 1980, मौका था कैलाश मानसरोवर यात्रा का...नरेंद्र मोदी की ये तस्वीर वाकई शानदार है।    
  बतौर वक्ता नरेंद्र मोदी हमेशा ही दूसरो के लिए प्रेरणा का स्त्रोत रहे। ये तस्वीर 1970 में खींची गई जब पीएम मोदी संघ के एक कार्यकर्ता के रूप में संबोधन दे रहे थे।    
  पीएम मोदी राजा के रूप में - यह सपना था जो 14 साल की उम्र में नरेंद्र मोदी ने देखा था और पीएम बनने के बाद साकार हो गया।   14 साल के मोदी ने इस नाटक में राजा की भूमिका निभाई और उसी वक्त उनकी ये तस्वीर खींची गई।    
  1980 में जब पीएम नरेंद्र मोदी भाजपा के एक कर्मठ नेता बन चुके थे, ये तस्वीर कामकाज के बीच फुर्सत के पलों में खींची गई। हाथ से बनाया विजय का चिह्न और चेहरे पर मुस्कान बता रही है कि वो शुरू से ही कितने सहज रहे हैं।    
  कैलाश मानसरोवर किनारे आत्म चिंतन का मौका। तस्वीर 1980 की है जब पीएम नरेंद्र मोदी कैलाश मानसरोवर की यात्रा पर गए थे। भगवे चोले में शांत धारा के किनारे 
आत्ममंथन में मोदी।    
  राजनीति में आने से पहले और बाद में भी नरेंद्र मोदी ने जरूरतमंदों से मिलने में कभी कोताही नहीं बरती। 1980 में खींची गई ये तस्वीर इस बात की गवाही है कि भाजपा के विधायक बनने के बाद वो आमतौर पर यूं ही लोगों से मिला करते थे।    
  गांव से शहर तक विकास की योजना का खाका खींचते नरेंद्र मोदी। नरेंद्र मोदी की यह तस्वीर 1980 की है जब वो गुजरात के गांवों का जायजा लेने खुद निकल पड़े थे।