Advertisement

Dainik Bhaskar Brings you the latest Hindi News

योगी राज में अपराधियों में एनकाउंटर का डर, तख्ती लेकर घूम रहे 2 क्रिमिनल; SP से कहा- नहीं करेंगे क्राइम

DainikBhaskar.com | Feb 16, 2018, 05:41 PM IST

शामली(यूपी). यहां कैराना के आस-पास गुरुवार को दो अपराधी हाथ में तख्तियां लेकर घूमते नजर आ रहे थे। तख्ती में लिखा है- 'मै

दोनों अपराधियों पर लूट और हत्य
-- पूरी ख़बर पढ़ें --

शामली(यूपी). यहां गुरुवार को दो अपराधी हाथ में तख्तियां लेकर सड़कों पर घूमते नजर आए। तख्ती में लिखा है- ''मैं भविष्य में किसी भी अपराध में शामिल नहीं रहूंगा। भविष्य में मैं कठिन परिश्रम करके रुपए कमाऊंगा। कृपया हमें माफ कर दें।'' दोनों पेशेवर अपराधी हैं। इन्हें डर है कि कहीं यूपी पुलिस उनका एनकाउंटर न दे, इसलिए दोनों सार्वजनिक तौर पर माफी मांग रहे हैं। आगे पढ़िए पूरा मामला...


- मामला कैराना कोतवाली क्षेत्र के गांव मोहम्मदपुर राई का है। यहां दो अपराधी सलीम अली और इरशाद अहमद हाथ में तख्ती लिए सड़कों पर घूम रहे थे।
- इन दोनों पर लूट और हत्या के 9 मामले दर्ज हैं। एक महीने पहले ही जमानत पर जेल से बाहर आए हैं। अपराधियों ने शामली के एसपी अजय पाल शर्मा को भी इसी अपील का एक शपथपत्र दिया है।
- उसमें उन्होंने कहा, ''हम लोगों पर शामली और कैराना थाने में कई मामले दर्ज हैं। अब हम लोग अपराध छोड़कर एक अच्छा जीवन बिताना चाहते हैं। हम नहीं चाहते कि दूसरे अपराधियों की तरह हमारा भी एनकाउंटर कर दिया जाए। हम अब परिवार के साथ शांतिपूर्ण जीवन जीना चाहते हैं।''
- एसपी अजय पाल ने बताया, ''सलीम और इरशाद उनसे मिले थे। यह बहुत अच्छी बात है, अगर वे लोग अपराध से दूर होकर अच्छा जीवन बिताना चाहते हैं।''

2001 में की थी हेड कांस्टेबल की हत्या

- बता दें,24 अप्रैल 2001 में सलीम और इरशाद ने थाना बड़ गांव जनपद सहारनपुर में हेड कांस्टेबल राम पाल की हत्या की थी। मामले में दोनों आरोपियों के खिलाफ मुकादमा दर्ज किया गया था।

- शामली में 43 पुलिस और मुठभेड़ें हुई हैं। जिसमें 6 बदमाशों को मार गिराया गया। इसके बाद एसपी अजय पाल शर्मा पर 'एनकाउंटर स्पेशलिस्ट' के नाम से चर्चा में आए।


CM योगी ने कहा था- यूपी में जारी रहेंगे एनकांउटर

- बता दें, 15 फरवरी को विधान परिषद में बजट सत्र के दौरान सीएम योगी आदित्यनाथ ने एनकाउंटर के मुद्दे पर कहा- ''22 करोड़ जनता को सुरक्षा देना सरकार का दायित्व है। ये दुर्भाग्यपूर्ण है कि कुछ लोग अपराधियों के लिए सहानुभूति प्रकट कर रहे हैं। ये लोकतंत्र के लिए खतरा है। प्रदेश में 1200 एनकाउंटर हुए हैं। अपराधियों के खिलाफ ये अभियान नहीं रूकेगा। विपक्ष के पास कोई मुद्दा नहीं है, इसलिए विपक्ष के लोग गैर-जरूरी बात कर रहे हैं।''