Advertisement

Dainik Bhaskar Brings you the latest Hindi News

स्ट्रेचर न मिलने पर बॉडी को कंधे पर लादकर ले गया हॉस्पिटल, लगाया ये आरोप

Dainikbhaskar.com | Feb 17, 2018, 12:10 PM IST

संभल में एक मृतक के परिवारवालों डेडबॉडी को कंधे पर लादकर हॉस्पिटल पहुंचाया।

-- पूरी ख़बर पढ़ें --

संभल (यूपी). यहां शु्क्रवार को एक मृतक के परिवारवालों ने बार-बार एंबुलेंस मुहैया कराने की गुहार लगाई। लेकिन उन्हें एंबुलेंस नहीं मिली। इससे परिवार वालों को डेडबॉडी कंधे पर लादकर ले जाना पड़ा। बताया जा रहा है कि एक शख्स अपने नाना के साथ खेत पर काम कर रहा था। इस बीच वह मिट्टी में दब गया। घायल अवस्था उसे अस्पताल ले जाया गया तो जहां डॉक्टर ने उसे मृत घोषित कर दिया। मृतक के परिवार वालों ने जब वापस घर जाने के लिए एंबुलेंस की मांगी की तो उन्हें दुत्कार दिया गया। इसके बाद परिवार का एक सदस्य शव को कंधे पर लादकर घर ले गया।

ये है पूरा मामला...

- मामला बहजोई कोतवाली के सादातबाड़ी गांव का है, जहां धेवता सूरजपाल निवासी जनपद बुलंदशहर, अपने नाना के साथ खेत पर मिट्टी का कुआं साफ कर रहा था तभी अचानक मिट्टी उसके ऊपर आकर गिरी और सूरजपाल मिट्टी में दब गया।
- काफी देर बाद गांववालों के सहयोग से सूरजपाल को बाहर निकाला जा सका। उसके ननिहाल के लोगों ने एंबुलेंस के लिए काफी प्रयास किया लेकिन फोन न उठने के कारण एंबुलेंस नहीं मिली।
- इसके बाद अपनी मोटरसाइकिल से ही उसे सरकारी अस्पताल बहजोई लाया गया लेकिन काफी देर होने के कारण डॉक्टर ने सूरजपाल को देखते ही मृत घोषित कर दिया।
- जब उसे घायल अवस्था में मोटरसाइकिल से उतारा जा रहा था तब कोई भी सरकारी कर्मचारी मदद के लिए आगे नहीं आया। परिजनों ने उसे कंधे पर अस्पताल में पहुंचाया, जहां डॉक्टर के मृत घोषित कर दिया।
- परिजनों ने एंबुलेंस की मांग की, तो अधिकारियों ने उसे डांट फटकार कर भगा दिया। कोई वाहन मिलता देख शव को मोटरसाइकिल पर ही लादकर घर ले गए।

अधिकारियों ने क्या कहा
- सीएमओ डॉ. अमिता सिंह ने कहा, ''मामला संज्ञान में आने के बाद कर्मचारियों से इसकी जानकारी ली। उन्होंने बताया कि मामले की जानकारी पुलिस को दी जानी, जिससे बॉडी को पोस्टमार्टम कराया जा सके।''
- पुलिस आती इससे पहले ही उन्होंने डेडबॉडी उठाई और चल दिए। पोस्टमार्टम होने के बाद उन्हें हॉस्पिटल से गाड़ी दी जाती।''