Advertisement

Dainik Bhaskar Brings you the latest Hindi News

Asia Cup 2018: एशिया कप में भारत-पाकिस्तान मैच 19 को; दोनों ने जीते हैं 5-5 मैच

DainikBhaskar.com | Sep 12, 2018, 04:30 PM IST

Asia Cup 2018 India vs Pakistan: एशिया कप क्रिकेट 15 सितंबर से शुरू हो रहा है।

कप्तानी का जिम्मा ओपनर रोहित श
-- पूरी ख़बर पढ़ें --

नई दिल्ली. Asia Cup 2018 India vs Pakistan:एशिया कप क्रिकेट टूर्नामेंट में वैसे तो कुल 6 टीमें हिस्सा ले रही हैं लेकिन निगाहें भारत और पाकिस्तान के मैच पर ही हैं। कहा जाता है कि जिन लोगों की क्रिकेट में रुचि नहीं भी है वो भी भारत और पाकिस्तान के बीच होने वाले मैच का परिणाम जानने के लिए उत्सुक रहते हैं। एशिया कप में दोनों देशों के बीच अब तक कुल 10 मैच हुए हैं। दोनों ही टीमों ने 5-5 मैच जीते हैं। जाहिर सी बात है कि इस बार भी मुकाबला कांटे का होगा। दोनों टीमों का मुकाबला 19 सितंबर को होगा। इस मैच के लिए रोहित शर्मा की कप्तानी वाली टीम इंडिया नेट्स पर पसीना बहा रही है। वहीं, पाकिस्तान पहला मैच हॉन्गकॉन्ग के खिलाफ आसानी से जीत गया।

एक साल बाद मुकाबला
- भारत और पाकिस्तान के बीच आखिरी मैच चैंपियंस ट्रॉफी में 2017 में खेला गया था। इस मैच में पाकिस्तान के फखर जमान ने दो जीवनदान मिलने के बाद शतक लगाया था और पाकिस्तान ने वो मैच और फाइनल जीत लिया था। उस मैच के बाद दोनों टीमें कभी आमने-सामने नहीं आईं। अब 19 सितंबर को दुबई में यह मुकाबला होगा। इसके अलावा यह उम्मीद भी की जा रही है कि यही दो टीमें फाइनल में भी टकराएंगी। इस मैच के लिए करीब एक महीने पहले ही सारे टिकट बिक चुके हैं और लोगों को इस मरुस्थल में अगर कुछ करिश्मे की उम्मीद है तो रोहित शर्मा की टीम से है।

12 साल बाद यूएई में टीम इंडिया
- भारतीय टीम ने साल 2006 में आखिरी बार यूएई में क्रिकेट मैच खेला था। यानी करीब 12 साल बाद टीम इंडिया यहां के मैदान पर उतरेगी और यहां भी उसका मुकाबला पाकिस्तान से होना है। यूएई में अब तक दोनों टीमों के बीच कुल 24 वनडे मैच खेले गए हैं। आप ये जानकार चौंक जाएंगे कि पाकिस्तान ने इनमें से 19 मैच जीते हैं। लेकिन, वो दौर और हालात कुछ अलग थे। हर लिहाज से अब टीम इंडिया काफी अलग और बेहतर मानी जाती है। भारत की तरफ से इस बार कप्तानी का जिम्मा ओपनर रोहित शर्मा को सौंपा गया है। शिखर धवन उप कप्तान बनाए गए हैं। विराट कोहली टीम में शामिल नहीं हैं। करीब 10 साल बाद हॉन्गकॉन्ग किसी इंटरनेशनल क्रिकेट टूर्नामेंट का हिस्सा बन रहा है।