Advertisement

Dainik Bhaskar Brings you the latest Hindi News

ब्राह्मणी से बीसलपुर पानी लाने में जलदाय विभाग का अड़ंगा, नहीं दे रहा 5 करोड़

जयपुर, अजमेर, टोंक व दौसा के लोगों को अभी झेलना पड़ेगा पेयजल संकट!

Shyam Raj | Sep 12, 2018, 01:33 PM IST

जयपुर।    ब्राह्मणी नदी से बीसलपुर बांध तक पानी लाने की डीपीआर के लिए जलदाय विभाग 5 करोड़ रुपए जलसंसाधन विभाग को ट्रांसफर नहीं कर रहा है जबकि वित्त विभाग डीपीआर के खर्चे पर अपनी सैद्धांतिक मंजूरी दे चुका है। जल संसाधन विभाग ने डीपीआर (डिटेल्ड प्रोजेक्ट रिपोर्ट) बनाने के वर्कऑर्डर की पूरी तैयारी कर ली है और पीडीकोर एजेंसी से कोटेशन भी ले लिया है, लेकिन बजट ट्रांसफर नहीं होने से वर्कऑर्डर नहीं दिया जा रहा है।

 

डीपीआर में एक साल का समय लगने के बाद ही प्रोजेक्ट के टेंडर लगने की कार्रवाई हो पाएगी। जब तक जयपुर, अजमेर, टोंक व दौसा के लोगों को पेयजल संकट झेलना पड़ेगा। बीसलपुर बांध का जल स्तर 309.43 आरएल मीटर है।

 

जलसंसाधन विभाग के एडिशनल चीफ इंजीनियर रवि सोलंकी का कहना है कि जलदाय विभाग के चीफ इंजीनियर (हैडक्वार्टर) आईडी खान से इस बारे में बात की है। अभी फंड ट्रांसफर नहीं हुआ है। फंड ट्रांसफर होते ही वर्कऑर्डर जारी कर दिया जाएगा।

 

यह है मामला 
मुख्यमंत्री ने जुलाई 2014 में जारी बजट में जिला चितौड़गढ़ की तहसील बेगू में ब्राह्मणी नदी पर बांध का निर्माण कर बीसलपुर बांध में वाटर डायवर्जन के लिए डिटेल प्रोजेक्ट रिपोर्ट तैयार करने की घोषणा की थी, लेकिन विभाग बीते चार साल में केवल फिजिबिलिटी रिपोर्ट ही तैयार करवा सका है। मुख्यमंत्री ने फरवरी 2018 में जारी बजट में कहा था कि बीसलपुर बांध पिछले 16 साल में केवल 4 बार ही पूरा भरा है। इसमें पानी की आवक बढ़ाने के लिए 6 हजार करोड़ की लागत वाली ब्राह्मणी-बनास परियोजना तैयार की है। इस परियोजना से जयपुर, अजमेर व टोंक जिले लाभांवित होंगे। मुख्यमंत्री की घोषणा के बावजूद डीपीआर के बजट की मंजूरी में ही छह महीने लग गए।

 

ब्राह्मणी नदी से बीसलपुर बांध को फायदा 
ब्राह्मणी नदी में मानसून के दौरान अच्छा पानी आता है। यह पानी जवाहर सागर बांध व कोटा बैराज होकर चंबल नदी में बह जाता है। इसे बनास नदी से जोड़ दिया जाए तो बीसलपुर बांध हर साल भरने की संभावना है। चंबल की सहायक नदी ब्राह्मणी से पानी लाने के लिए भैंसरोडगढ़ के पास बांध बनाया जाएगा। इस बांध में पानी रोककर नहर से लिफ्ट करेंगे जिसे भीलवाड़ा के जहाजपुर (नापाखेड़ा) के पास बनास नदी में मिलाया जाएगा।

 

ब्राह्मणी नदी से बांध में पानी लाने के लिए करीब 89 किमी की नई नहर बनाई जाएगी। इसमें 59 किमी टनल केनाल है और शेष भाग में ओपन केनाल बनेगी। ब्राह्मणी नदी से मानसून में 422 मिलियन क्यूबिक पानी देने की प्लानिंग है। जल संसाधन विभाग ने इसकी फिजिबिलिटी रिपोर्ट तैयार की है। इसी योजना में बांध की डेढ़ मीटर तक ऊंचाई भी बढ़ाई जाएगी। ऊंचाई बढऩे से बांध की भराव क्षमता 315.50 आरएल मीटर से बढ़कर 317 आरएल मीटर तक हो जाएगी। बांध की क्षमता बढ़ने के बाद बीसलपुर प्रोजेक्ट के द्वितीय फेज के लिए करीब 6.9 टीएमसी अतिरिक्त पानी रोजाना मिल पाएगा।
 

 

 


 
Advertisement

Dainik Bhaskar Brings you the latest Hindi News

टॉप न्यूज़और देखें

Advertisement

बॉलीवुड और देखें

स्पोर्ट्स और देखें

Advertisement

Dainik Bhaskar Brings you the latest Hindi News

जीवन मंत्रऔर देखें

राज्यऔर देखें

वीडियोऔर देखें

बिज़नेसऔर देखें