Advertisement

Dainik Bhaskar Brings you the latest Hindi News

हार्दिक का अनशन टूटने के कगार पर, आज हो सकती है घोषणा

कहा यह जा रहा है कि समाज की कई संस्थाओं की तरफ से दबाव है।

Dainikbhaskar.com | Sep 12, 2018, 01:04 PM IST

अहमदाबाद। हार्दिक का अनशन अब टूटने के कगार पर पहुंच गया है। इस आशय का संकेत बुधवार को यहां आयोजित प्रेस कांफ्रेंस में पास के कन्वीनर मनोज पनारा ने दी। उन्होंने बताया कि खोडलधाम के अध्यक्ष नरेश पटेल और उमाधाम के अध्यक्ष प्रहलाद पटेल हार्दिक का अनशन समाप्त करेंगे। उल्लेखनीय है कि हार्दिक पिछले 19 दिनों से आमरण उपवास पर है। इस दौरान उससे कई नेता मिलने पहुंचे। संस्थाएं चाहती हैं कि अनशन समाप्त हो…

 

मनोज पनारा का कहना था कि समाज के प्रतिनिधियों ने पहुंचकर आग्रह किया है कि हार्दिक का अनशन समाप्त होना चाहिए।

समाज के उद्योगपति और बुजुर्गों ने हमें समझाया कि हार्दिक अनशन खत्म कर दे।

अनशन खत्म होना समाज के लिए आवश्यक है।

खोडलधाम के अध्यक्ष नरेश पटेल और उमाधाम के अध्यक्ष प्रहलाद पटेल हार्दिक का अनशन खत्म करवाएंगे।

जो भी हार्दिक से मिलने आए, उनका आभार।

हरीश रावत ने कहा था कि हार्दिक की लड़ाई अन्य क्षेत्रों में भी फैलनी चाहिए।

सरकार ने हमसे एक बार भी बात करने की काेशिश नहीं की।

आज भले ही सरकार हमारी मांगें पूर्ण नहीं कर रही हो, पर भविष्य में उसे हमारी मांगें माननी ही होगी।

हार्दिक के अनशन से एक बार फिर समाज के किसान जाग्रत हो गए हैं।

अल्पेश कथारिया को रिहा नहीं किया गया, तो हम सड़क पर आ जाएंगे।

पुलिस-मीडिया ने हमें काफी सहयाेग किया, पर सरकार ने दमन ही किया।

 

प्रकाश अंबेडकर ने सरकार की आलोचना की

बाबा साहब अंबेडकर के पाैत्र प्रकाश अंबेडकर ने कहा कि सरकार जानबूझकर देश में अराजकता का माहौल तैयार कर रही है। वह समाज में विद्रोह करवा रही है। पिछले चार सालों में लोकतंत्र खत्म हो गया है और हिटलरशाही शुरू हो गई है। भाजपा 2019 में एक बार फिर सत्ता में काबिज होने के लिए फड़फड़ा रही है।

 

कई नेताओं ने की मुलाकात

पाटीदार आरक्षण आंदोलन समिति (पास) के नेता हार्दिक पटेल से मंगलवार को उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत तथा संविधान निर्माता बाबा साहेब आंबेडकर के पौत्र और पूर्व सांसद प्रकाश आंबेडकर ने मुलाकात की। किसानों की कर्जमाफी, पाटीदार आरक्षण और राजद्रोह के मामले में जेल में बंद अपने साथी अल्पेश कथीरिया की रिहाई की मांग को लेकर गत 25 अगस्त से अपने आवास ग्रीनवुड रिसाॅर्ट में आमरण अनशन पर बैठे हार्दिक पटेल को उपवास के 14 वें दिन सात सितंबर को उन्हें पहले सरकारी अस्पताल में और बाद में निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया था। इलाज के बाद 9 सितंबर को वापस वह अपने आवास पर आकर अनशन पर बैठ गए।

 

लड़ाई दिल्ली तक ले जाओ-हरीश रावत

हरीश रावत ने हार्दिक को अनशन तोड़ने और उनकी लड़ाई को दिल्ली तक ले जाने की सलाह दी। दूसरी ओर सांसद आंबेडकर ने भी उनसे मुलाकात कर उन्हें समर्थन दिया। उनके अलावा छत्तीसगढ़ के पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी के पुत्र और कांग्रेस विधायक अमित जोगी ने भी हार्दिक से मुलाकात की। इस बीच, समझा जा रहा है कि हार्दिक के उपवास को समाप्त कराने के लिए उनके समर्थकों और पाटीदार समाज के नेताओं के बीच बैठकों का सिलसिला जारी है। राज्य की भाजपा सरकार ने उनके उपवास को कांग्रेस प्रेरित बताया है।

 

सरकार विद्रोह फैलाकर सत्ता हासिल करना चाहती है : प्रकाश

अनशन के 18वें दिन सांसद प्रकाश आंबेडकर ने हार्दिक से मुलाकात करने के बाद उन्हें अनशन छोड़कर दूसरा रास्ता अपनाने की सलाह दी। आंबेडकर ने कहा कि सरकार जानबूझ कर देश में अराजकता, समाज में विद्रोह करवा रही है। देश में इमरजेंसी लागू करके फिर से सत्ता में आना चाहती है। उन्होंने कहा कि जब से देश में आरएसएस और भाजपा सत्ता में आई है तब से लोकतंत्र खत्म हो गया और हिटलरशाही शुरू हो गई है। सरकार जातिगत राजनीति करके 2019 में फिर से सत्ता में आने की फिराक में है। उन्होंने कहा कि जो आरक्षण की मांग कर रहे हैं उनके लिए सरकार व्यवस्था कर सकती है। कांग्रेस नेताओं और पाटीदार नेताओं ने हार्दिक से मुलाकात करके अनशन तोड़ने की अपील की।

 

हार्दिक का आरोप, डीसीपी को सौंपा गया है उन्हें मारने का काम

हार्दिक ने मंगलवार को ट्विट कर आरोप लगाया कि उनके उपवास आंदोलन को तोड़ने और रोकने के लिए भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के आदेश पर राज्य के गृहमंत्री प्रदीपसिंह जाडेजा और मुख्यमंत्री विजय रुपाणी ने पुलिस अधिकारी और डीसीपी जयपाल राठौड़ को उन्हें मारने और उनके साथियों को धमकाने का काम साैंपा है।

 

18 दिनों के अनशन के बाद भी कोई निर्णय नहीं ले रही सरकार: धानाणी

प्रतिपक्ष नेता परेश धानाणी ने कहा कि महात्मा गांधी ने जनता की समस्याओं के लिए सरकार के खिलाफ अनशन को रामबाण इलाज बताया था, पर गुजरात में 18 दिनों से हार्दिक के उपवास करने के बावजूद सरकार टस से मस नहीं हो रही है। उन्होंने कहा कि हार्दिक के अनशन से सरकार क्या साबित करना चाहती है?

 
Advertisement

Dainik Bhaskar Brings you the latest Hindi News

टॉप न्यूज़और देखें

Advertisement

बॉलीवुड और देखें

स्पोर्ट्स और देखें

Advertisement

Dainik Bhaskar Brings you the latest Hindi News

जीवन मंत्रऔर देखें

राज्यऔर देखें

वीडियोऔर देखें

बिज़नेसऔर देखें