Advertisement

Dainik Bhaskar Brings you the latest Hindi News

भीख मांगने कार के आगे आया बच्चा, ड्राइवर की हालत देख आया रोना तो भीख में मिले सारे पैसे लुटाए

DainikBhaskar.com | Jun 30, 2018, 06:02 PM IST

फेसबुक पोस्ट वायरल होने के बाद महिला और जॉन दोनों की किस्मत बदल गई।

-- पूरी ख़बर पढ़ें --

नैरोबी. कई बार हम रास्ते में भीख मांगने वाले बेघर बच्चों को आवारा और बदमाश समझकर झिड़क देते हैं। लेकिन अफ्रीकी देश केन्या के जॉन टुओ की कहानी शायद आपकी सोच बदल सकती है। केन्या की राजधानी नैरोबी में रहने वाला जॉन टुओ सड़क पर भीख मांग पर गुजारा करता था। एक दिन सिग्नल पर भीख मांगते हुए उसकी नजर एक कार पर पड़ी। जॉन उस कार की तरफ पैसे मांगने के लिए बढ़ा, लेकिन अगले ही पल ठिठक गया। दरअसल, उस कार में ऐसी महिला बैठी थी, जो बेहद बीमार थी। उसकी हालत देख जॉन को रोना आ गया और उसने दिनभर में जितने पैसे भीख में मिले थे, सारे महिला को दे दिए। वहां मौजूद एक शख्स ने इस पूरे घटना को फेसबुक पर पोस्ट किया, जिसके बाद ये स्टोरी वायरल हो गई। महिला की हालत देख रो पड़ा बच्चा...

- कार जैसे ही आगे बढ़ी तो जॉन ने उसे रोक लिया और पैसे के लिए हाथ आगे बढ़ाया। उसने देखा कि एक महिला कार चला रही थी और उसके आसपास मशीन और ट्यूब लगे थे। वह एक ऑक्सीजन टैंक की मदद से ही सांस ले रही थी।

- फेसबुक पोस्ट के मुताबिक, महिला का नाम ग्लेडीज कमांडे था। उसकी उम्र 32 साल थी। उसने जॉन को बताया कि उसके लंग्स खराब हो चुके हैं। उसे सांस लेने में दिक्कत होती है और जिंदा रहने के लिए ऑक्सीजन सिलेंडर पर निर्भर है। महिला ने बताया कि उसके पास सर्जरी के पैसे नहीं हैं। पैसे होंगे तो एक बार फिर से ठीक हो जाएगी।

- जॉन ने जब महिला की गंभीर हालत देखी तो उसे समझ आया कि वह खुद इतनी बुरी कंडीशन में नहीं है, जितनी बुरी हालत में वह महिला थी। ये देख जॉन की आंखों में आंसू आ गए और उसके पास जितने पैसे थे, महिला को दे दिए।

- वहां से गुजर रहे एक शख्स ने इस पूरे कहानी को फेसबुक पर पोस्ट कर दिया। जिसके बाद महिला और जॉन की स्टोरी वायरल हो गई।

एफबी पोस्ट से बदल गई किस्मत

- फेसबुक पोस्ट वायरल होने के बाद महिला और जॉन दोनों की किस्मत बदल गई। बीमार महिला को दुनियाभर से अनजान लोगों ने तकरीबन 54 लाख रुपए की मदद भेजी, उन पैसों से महिला ने भारत आकर अपना इलाज करवाया।

- वहीं, जॉन को सड़क पर भीख मांगने से मुक्ति मिल गई। उसकी स्टोरी जानकर निसी वागबुगु नाम की महिला ने उसे गोद ले लिया। अब जॉन स्कूल जाने लगा है। जॉन ने बताया कि उसकी मां की मौत के बाद वह घर छोड़कर भाग अाया था। क्योंकि पिता उसे बहुत पीटता था। ऐसे में जॉन के पास सड़क पर रहने और भीख मांगकर गुजारा करने के अलावा कोई रास्ता नहीं बचा था।