--Advertisement--

जकार्ता में एशियाई खेलों से पहले गंदी नदी को जाल से ढंका ताकि एथलीट्स को यह न दिखाई दे

एशियाई खेलों में 45 देशों के 11 हजार एथलीट हिस्सा लेंगे, मुकाबले जकार्ता और सुमात्रा में

DainikBhaskar.com | Jul 31, 2018, 08:25 PM IST

- लोगों ने मजाक उड़ाया, कहा- नदी को छिपाना नहीं, साफ करना था
- जकार्ता में बहने वाली सेनतायोंग नदी का 96% पानी प्रदूषित

 

जकार्ता. इंडोनेशिया की राजधानी में 18 अगस्त से 2 सितंबर तक एशियाई खेल होने हैं। खेल गांव सेनतायोंग नदी के किनारे बनाया गया है, लेकिन इसमें इतनी गंदगी है कि लोग इसे काली नदी कहते हैं। सरकार नहीं चाहती कि इस पर एथलीटों की नजर पड़े, लिहाजा खेल गांव वाले हिस्से में नदी को गहरे रंग के जाल से ढंक दिया गया है। एशियाई खेलों में 45 देशों के 11 हजार एथलीट हिस्सा लेंगे। मुकाबले जकार्ता और सुमात्रा में होंगे।

प्रशासन के इस कदम का लोग मजाक उड़ा रहे हैं। उनका कहना है कि नदी साफ करने की बजाय सरकार ने आसान तरीका चुना। जकार्ता के गवर्नर अनीस बासवेदान कहते हैं कि अगर पिछली सरकारों ने काम किया होता तो नदी की हालात इतनी खराब नहीं होती। वहीं, जकार्ता के डिप्टी गवर्नर सांदियागा ऊनो का कहना है कि नदी का सौंदर्यीकरण करने की योजना तैयार है, लेकिन इसमें वक्त लगेगा। इसके लिए 30 हजार पौंड (करीब 27 लाख रुपए) का बजट तय किया गया है। 
 

पूरी नदी प्रदूषित : सेनतायोंग नदी में घरों और फैक्टरियों से निकला गंदा पानी जाता है। इंडोनेशिया के नेशनल डेवलपमेंट एंड प्लानिंग बोर्ड के मुताबिक, इसका 96% पानी बुरी तरह प्रदूषित है। पानी साफ करने के लिए कई उपाय किए जाने हैं। जावा के एक बांध से पानी भी छोड़ा जाना है ताकि सारी गंदगी बह जाए। साथ ही वॉटर ट्रीटमेंट प्लांट्स भी लगाए जाएंगे।

 

--Advertisement--

टॉप न्यूज़और देखें

बॉलीवुड और देखें

स्पोर्ट्स और देखें

--Advertisement--

जीवन मंत्रऔर देखें

राज्यऔर देखें

वीडियोऔर देखें

बिज़नेसऔर देखें