Advertisement

Dainik Bhaskar Brings you the latest Hindi News

यमुनानगरः साढ़े 13 किलो सोने के लिए एक ज्वैलर्स ने किया दूसरे का मर्डर, सिर और मुंह पर वार कर खेतों में फेंक दी डेडबॉडी

वारदात को अंजाम देकर गांव रजपुरा के नजदीक खेतों में फैंक दिया शव।

dainikbhaskar.com | Jun 29, 2018, 07:29 AM IST

यमुनानगर/नारायणगढ़. एक ज्वेलर ने उधार लिए साढ़े 13 किलो सोने की पेमेंट देने के बहाने कार में ले जाकर सर्राफा कारोबारी की हत्या कर दी। कारोबारी का शव अम्बाला के शहजादपुर क्षेत्र के गांव रजपुरा के खेतों में मिला। पुलिस ने आरोपी ज्वेलर पर केस दर्ज कर हिरासत में ले लिया है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट के मुताबिक हत्या गला दबाकर सिर व चेहरे पर धारदार हथियार से की गई है। यमुनानगर सिटी थाना प्रभारी ओमप्रकाश के मुताबिक हत्या में 3 लोगों के शामिल होने की बात सामने आ रही है। बाजार भाव के हिसाब से साढ़े 13 किलो सोने की कीमत करीब सवा चार करोड़ बनती है।

 

यमुनानगर से अपहरण, अम्बाला के खेतों में मिला शव

यमुनानगर के सेक्टर-17 में रहने वाले संजीव खन्ना  (54) का रेलवे रोड पर न्यू जमुना व प्यारा चौक पर खन्ना ज्वेलर्स के नाम से शोरूम हैं। वहीं, प्रेम नगर के रहने वाले योगेश सूरी (25) की न्यू मार्केट कॉलोनी में साक्षी ज्वेलर्स के नाम से दुकान है। संजीव के बेटे अानंद ने बताया कि उसके पिता ने पिछले कुछ महीनों में सूरी को साढ़े 13 किलो सोना उधार में दिया था। बुधवार रात 9 बजे संजीव शोरूम बंद कर चाबियां घर दे गया और हिसाब-किताब करने के लिए सूरी की होंडा सिटी कार में चला गया। सूरी ने कहा था कि वह सोने की पेमेंट देगा। करीब डेढ़ घंटे संजीव वापस नहीं लौटा तो परिजनों ने मोबाइल पर संपर्क करना चाहा। लेकिन मोबाइल स्विच ऑफ आ रहा था। सूरी से संपर्क किया तो जवाब मिला कि उसने संजीव को पूरी पेमेंट देकर 10.30 बजे सेक्टर के नजदीक जमींदारा पेट्रोल पंप के पास उतार दिया था। इसके बाद परिजनों ने संजीव की तलाश शुरू की।

 

पुलिस पर आरोपी का साथ देने का आरोप, डीजीपी के हस्तक्षेप के बाद केस दर्ज

संजीव खन्ना  के परिजन कई घंटे तक पुलिस के पास घूमते रहे, लेकिन पुलिस ने कोई सहयोग नहीं किया। आरोप है कि पुलिस उनकी सुनवाई के बजाय धमकाती रही और सूरी को कॉफी व डिनर अॉफर करती रही। आखिर में डीजीपी कार्यालय के हस्तक्षेप के बाद पुलिस हरकत में आई। रात ढाई बजे संजीव के अपहरण की एफआईआर दर्ज हुई। इसके बाद पुलिस योगेश सूरी को साथ लेकर संजीव को ढूंढने निकली। गुरुवार सुबह करीब 7 बजे संजीव की लाश बरामद हुई। इसके बाद हत्या की धारा जोड़ी गई। परिजनों ने पुलिसकर्मी कुशलपाल राणा, सिटी एसएचओ ओमप्रकाश और इंस्पेक्टर सुनील पर आरोपी का साथ देने के आरोप लगाए हैं। आरोपी योगेश अविवािहत है। 

 

10 बजे से पहले हुई हत्या, गला दबाया, सिर पर किए गए वार

पोस्टमार्टम रिपोर्ट के मुताबिक खोपड़ी की कई जगह से हड्डियां टूटी हैं। मुंह व सिर पर 11 जगह 3-4 इंच गहरे घाव हैं। अनुमान है कि मृतक के सिर पर भारी व मुंह पर नुकीली चीज से हमला हुआ है। डॉ. गौरव शर्मा व सौरभ चौधरी की रिपोर्ट के मुताबिक हत्या 10 बजे से पहले हुई। एेसे में अनुमान है कि कार में हत्या कर शव को 40 किमी दूर खेतों में फेंका गया। उसके बाद हत्यारे वापस यमुनानगर आ गए।

 

सहारनपुर में धमकियों से परेशान होकर यमुनानगर शिफ्ट हुए थे

संजीव के परिवार का होलसेल ज्वेलरी का पुश्तैनी काम है। सहारनपुर में उनके दोनों भाइयों के ज्वेलरी के शोरूम हैं। संजीव 15 साल से यमुनानगर समेत हरियाणा के कई शहरों में ज्वेलरी सप्लाई करते थे। सहारनपुर में 2 साल पहले माहौल काफी खराब हो गया था। व्यापारियाें को फिरौती की धमकियाें व हत्याओं के चलते संजीव परिवार समेत यमुनानगर के सेक्टर-17 में किराए पर कोठी लेकर शिफ्ट हो गए। जिस डर के चलते वे यूपी छोड़कर यमुनानगर आए थे, यहां पर उनके साथ वही हो गया। पैसे के चलते मूलरूप से सहारनपुर के रहने वाले योगेश ने संजीव की हत्या कर दी।

Advertisement

Dainik Bhaskar Brings you the latest Hindi News

टॉप न्यूज़और देखें

Advertisement

बॉलीवुड और देखें

स्पोर्ट्स और देखें

Advertisement

Dainik Bhaskar Brings you the latest Hindi News

जीवन मंत्रऔर देखें

राज्यऔर देखें

वीडियोऔर देखें

बिज़नेसऔर देखें