Advertisement

Dainik Bhaskar Brings you the latest Hindi News

शादी में मिली जूलरी और महंगे कपड़े पड़ोसी महिला को दिखाए तो उसने अपने पति संग मिलकर कर दी थी हत्या

Bhaskar News | Sep 11, 2018, 12:19 PM IST

पति-पत्नी ने लाश को दहेज में मिले सूटकेस में भरकर ऐसे लगाया था ठिकाने।

-- पूरी ख़बर पढ़ें --

ग्रेटर नोएडा। करीब 5 महीने पहले नवविवाहिता माला की हत्या के मामले में उसके पड़ोस में रहने वाले दंपती को अरेस्ट किया है। नवविवाहिता के पास जूलरी और महंगे कपड़े देखकर आरोपी दंपती लालच में गए थे। हत्या से एक दिन पहले ही माला ने घर आई फुफेरे भाई की पत्नी और आरोपी महिला के सामने शादी में मिले कपड़े और जूलरी दिखा दी थी। इसके बाद आरोपी महिला ने अपने पति को इसकी जानकारी दी। माला के पति जब ड्यूटी पर थे तभी दोनों ने साजिश के तहत माला को अपने कमरे में बुलाया और गला घोंटकर हत्या कर दी थी। इसके बाद उसके शव को दहेज में मिले सूटकेस में ही रखकर महंगी जूलरी, कपड़े और मोबाइल फोन अपने बैग में भर लिए थे। घटना वाली रात 9 बजे ही एक ऑटो बुलाकर पति-पत्नी शव व सामान लेकर गाजियाबाद की तरफ चले गए थे। यहां से आरोपी महिला लूटा सामान लेकर अपने मायके चली गई थी जबकि पति ने सूटकेस में रखे शव को इंदिरापुरम में फेंक दिया था।

नवविवाहिता के परिजनों ने उसके पति के खिलाफ दहेज हत्या की कराई थी रिपोर्ट

- एसएसपी डॉ. अजयपाल ने बताया कि गिरफ्तार दंपती सौरभ दिवाकर और उसकी पत्नी रितू है। इनके कब्जे से मृत विवाहिता माला की जूलरी, कपड़े व मोबाइल फोन बरामद हुआ है।

एसएसपी ने बताया कि दोनों को बिसरख थाने की पुलिस ने हैबतपुर के पास सोमवार सुबह गिरफ्तार किया। इन्होंने मिलकर 7 अप्रैल की शाम को माला का मर्डर किया था। उस समय माला का पति शिवम नोएडा के डीएलएफ मॉल के एक शोरूम में ड्यूटी पर था।

- रात करीब 9:30 बजे शिवम ने पत्नी को कॉल किया था तब फोन बंद मिला था। रात करीब 11 बजे जब वह घर पहुंचा तो वहां न माला थी और न घर में सामान। 10 अप्रैल की सुबह इंदिरापुरम एरिया से महिला का सूटकेस में शव मिलने के बाद माला के परिवार ने बिसरख थाने में शिवम के खिलाफ ही दहेज हत्या की रिपोर्टदर्ज करा दी थी।

पड़ोसी दंपती पर कमरा छोड़ने से हुआ शक

एसएसपी डॉ. अजयपाल ने बताया कि घटना के बाद माला के परिवार ने पति शिवम के खिलाफ ही दहेज हत्या की रिपोर्ट दर्ज कराई थी। पुलिस ने शक के आधार पर उसे हिरासत में लिया था। घटना के समय उसके डीएलएफ मॉल में होने की पुष्टि हो गई थी। इसलिए उसे छोड़ दिया गया था। घटना के बाद पड़ोस में रहने वाला सौरभ और उसकी पत्नी ने कमरा छोड़ दिया था। माला की हत्या के बाद से फोन भी इन्हीं के पास होने का पता चला। जिसके बाद पुलिस ने दोनों गिरफ्तार कर लिया।