Advertisement

Dainik Bhaskar Brings you the latest Hindi News

आरक्षण की मांग को लेकर आज सोलापुर बंद, औरंगाबाद में एक और युवक ने किया सुसाइड

Dainikbhaskar.com | Jul 30, 2018, 10:16 AM IST

औरंगाबाद में एक और युवक ने आरक्षण की मांग को लेकर ट्रेन के आगे कूद कर सुसाइड कर लिया है।

पुणे के चाकण इंडस्ट्रियल एरिय
-- पूरी ख़बर पढ़ें --

- मराठा आरक्षण को लेकर देवेंद्र फडणवीस ने शनिवार को सर्वदलीय बैठक बुलाई थी

सोलापुर/पुणे. मराठा आरक्षण के लिए सकल मराठा समाज की अपील पर सोमवार को महाराष्ट्र बंद बुलाया गया। आंदोलनकारियों ने पुणे में सरकारी बसें फूंकी और सोलापुर में पुलिस पर पथराव किया। उधर, औरंगाबाद में एक युवक ने ट्रेन के आगे कूदकर खुदकुशी कर ली। प्रदर्शन के दौरान यहां खुदकुशी का ये तीसरा मामला है। कांग्रेस ने राज्यपाल विद्यासागर राव से आरक्षण के मसले पर हस्तक्षेप की मांग की है। आंदोलनकारियों की मांग है कि पिछड़ा वर्ग के तहत मराठा समाज को नौकरियों और शिक्षा में 16 फीसदी आरक्षण दिया जाए।

जानकारी के मुताबिक, सुसाइड करने वाला प्रमोद पाटिल मूलतः लातूर का रहने वाला है। पिता की नौकरी औरंगाबाद में थी जिस वजह से वह परिवार के साथ यहां रह रहा था। प्रमोद पिछले चार दिनों से लगातार आंदोलन में भाग ले रहा था।

खुदकुशी से पहले फेसबुक पोस्ट लिखी : दोस्तों ने कहा कि प्रमोद आरक्षण को नौकरी न मिलने की वजह मान रहा था। खुदकुशी से पहले प्रमोदने फेसबुक पोस्ट में लिखा, "चलो आज एक मराठा जा रहा है। यह मराठा आरक्षण के लिए किया। जय जिजाऊ, आपका प्रमोद पाटिल।"

पुणे में हिंसा, धारा 144 लगी :प्रदर्शकारियों ने पुणे के चाकण इंडस्ट्रियल एरिया में 25 सरकारी बसों में आग लगा दी। सड़कों पर जाम भी लगाया।यहां अतिरिक्त पुलिस बल तैनात किया गया है। धारा 144 लागू कर दी गई है। शुक्रवार को मुंबई में आरक्षण की मांग को लेकर हिंसक प्रदर्शन हुए थे। यहां सरकारी बस और ट्रेन सेवा पर असर पड़ा था।

खुदकुशी करने वालों को 50 लाख मुआवजा देने की मांग :सकल मराठा समाज ने मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस को चेतावनी दी। समाज ने कहा- आंदोलन के दौरान जिन कार्यकर्ताओं की मौत हुई है, उनके परिवार को सरकार 50 लाख रुपये की मदद करे। महिलाओं पर लाठीचार्ज और गोलीबारी करने वाले अधिकारियों पर भी कार्रवाई की जाए। जो मामले दर्ज किए गए हैं, उन्हें वापस लिया जाए। मुख्यमंत्री के साथ अब चर्चा करने के लिए मराठा समाज का कोई प्रतिनिधि नहीं जाएगा।