Advertisement

Dainik Bhaskar Brings you the latest Hindi News

दुस्साहस/ थाने में मुंशी और संतरी के सिर में गैंती मारी; फिर बंदूक लेकर भागा, थाना प्रभारी ने पकड़ा

Dainik Bhaskar | Sep 12, 2018, 05:38 AM IST
कार्रवाई करने के दौरान एचसीएम (मुंशी) उमेश बाबू पर गैंती से हमला करता आराेपी।
-- पूरी ख़बर पढ़ें --

  • थाने से भागने के लिए किया हमला
  • पुलिस ने नशे में ऊमरी के बाजार में उत्पात मचाने के आरोप में बदमाशों को पकड़ा था

Dainik Bhaskar

Sep 12, 2018, 05:38 AM IST

भिंड.ऊमरी थाना में एचसीएम उमेश बाबू और संत्री गजराज पर हमला करने वाले आरोपी ने जान से मारने की नीयत से गैंती से हमला किया था। वीडियो में यह साफ दिख रहा है। साथ ही संत्री की बंदूक उठाकर आरोपी भाग गया। हालांकि ऊमरी थाना प्रभारी सीपीएस चौहान ने उसे पकड़ लिया।

साथ ही उसके सहयोगी के खिलाफ भी केस दर्ज कर लिया है। वहीं दोनों को जेल भेज दिया है। इधर घायल एचसीएम का दिल्ली के सफदरगंज अस्पताल में इलाज चल रहा है। जहां उनकी हालत चिंताजनक बनी हुई है।

पहले मुंशी ग्वालियर,फिर दिल्ली कियारैफर :रविवार की दोपहर विष्णु तोमर (22) पुत्र रामशरण तोमर निवासी लारौल दोपहर के वक्त ऊमरी के बाजार में शराब के नशे में उत्पात मचा रहा था। यह सूचना जब पुलिस को मिली तो उसे पकड़ कर थाने ले आई। शाम करीब 7.30 बजे जब एचसीएम उमेश बाबू उसके विरुद्ध धारा 151 (शांति भंग) की कार्रवाई कर रहे थे। तभी विष्णु ने अपने दोस्त मान सिंह पुत्र बलवीर सिंह राजपूत निवासी लारौल के साथ षड़यंत्र रचा।

साथ ही थाने में कंप्यूटर कक्ष के सामने बरामदे में रखी गैंती उठाकर पीछे से पहले एचसीएम के सिर में मार दी, जिससे वे वहीं मौके पर धरे रह गए। इसके बाद दूसरा बार उसने बगल में कुर्सी पर बैठकर मोबाइल पर बात कर रहे संत्री गजराज को मार दी, जिससे वह भी वहीं गिर पड़े। इसके बाद आरोपी विष्णु संत्री की 303 रायफल उठाकर थाने से बाहर भाग गया।

हालांकि इसी दौरान ऊमरी थाना प्रभारी सीपीएस चौहान ने थाने आ गए और उन्होंने उसे पकड़ लिया। साथ ही दोनों घायलों को तत्काल उपचार के लिए जिला अस्पताल भिजवाया गया। जहां से एचसीएम को ग्वालियर और वहां से दिल्ली रैफर कर दिया गया। लेकिन उनकी हालत अभी भी चिंताजनक बनी हुई है।

बगल में बैठे संत्री गजराज संभल पाते उससे पहले ही उनपर भी आरोपी ने किया वार।
दोनों को गंभीर घायल करने के बाद लाल घेरे में भागता आरोपी इस दौरान दूसरा आरोपी खड़ा रहा।