Advertisement

Dainik Bhaskar Brings you the latest Hindi News

चरानीघाट के पास आया पहाड़ी से मलबा, नाहन-शिमला नेशनल हाईवे 8 घंटे रहा बंद, लोगों को चलना पड़ा पैदल

तिब्बतियन चौक पर देवदार का पेड़ खड़ी गाड़ियों पर गिर गया

Bhaskar News | Sep 07, 2018, 06:41 AM IST

शिमला
शहर में एक बार फिर से भारी बारिश ने लोगों की मुसीबतें बढ़ा दी। जहां जगह जगह सड़कों पर पेड़ गिरें, वहीं आईजीएमसी के इमरजेंसी में भी पानी घुस गया। इस कारण मरीजों और उनके तीमारदारों को भी दिक्कतों का सामना करना पड़ा। संजौली के साथ लगते तिब्बतियन चौक पर देवदार का पेड़ खड़ी गाड़ियों पर गिर गया। इस कारण तीन वाहन क्षतिग्रस्त हुए हैं। इसी तरह कैंसर अस्पताल के नजदीक पानी के साथ मलबा सड़क पर आ गया। यहां खड़ी दो गाड़ियां भी मलबे में दब गई। बेनमौर वार्ड में बारिश के कारण एक पेड़ गिर गया। मल्याणा भटटाकुफर बॉयपास पर हाउसिंग बोर्ड काॅलोनी का मलबा दोपहर में हुई बारिश के दौरान बाईपास पर आ गया। मलबा का बहाव इतना ज्यादा था कि यहां से गुजर रही दो गाड़ियां मलबे की चपेट में आ गई। जिसमें एक गाड़ी को समय रहते निकाल लिया गया , लेकिन एक गाड़ी मलबे के बहाव में बह कर सड़क के किनारे जा फंसी।


छोटा शिमला संजौली रोड पर भी हुअा अवरुद्धशहर में दोपहर दो बजे के बाद भारी बारिश हुई। इस कारण कार्ट रोड पर लंबा जाम लग गया। छोटा शिमला से संजौली जाने वाले मार्ग पर भूस्खलन हुआ। यहां पेट्रोल पंप के समीप लैंड स्लाइड हुआ अौर पत्थर भी गिरे। इस कारण यहां पर वाहनों की आवाजाही रुक गई। हालांकि, धीरे धीरे ट्रैफिक चलता रहा। बारिश इतनी तेज थी की शहर के सभी नालों में अचानक तेज बहाव आ गया। विकासनगर, संजौली और नवबहार एरिया में कई लोगों के घरों के भीतर पानी भर गया। पानी भरने की वजह से लोगों को खासी मुश्किलों का सामना करना पड़ा है।
आईजीएमसी के साथ लगते कैंसर अस्पताल के पास सड़क पर मलबा आ गया, इस कारण गाड़ियां मलबे की चपेट में आ गई।
नालों के साथ गंदगी भी आ गई सड़कों परनालों के साथ आई गंदगी की वजह से पूरे शहर की सुंदरता के उपर भी दाग लगा है। जंगलों में पानी के बहाव के साथ मिट्टी के कटाव को रोकने के लिए लगाए गए चेकडैम भी पानी के बहाव के साथ बह गए हैं। पानी का बहाव इतना तेज था कि इससे कई स्थानों में डंगा ढहने, कलवट भरने की शिकायतें भी प्रशासन को भी मिली है। करीब दो घंटें हुई इस बारिश से निगम की ओर से पहले से तैयार रहने के सारे दावे भी हवा हो गया हैं। निगम प्रशासन की ओर से दावा किया जा रहा था कि बरसातों के समय नाला भरने की समस्या न आए इसके लिए नालों की सफाई की जाएगी, लेकिन इस बारिश ने प्रशासन की पोल खोलकर रख दी है।
अाईजीएमसी में ब्लड बैंक जाने वाली रोड पर भी मलबा अा गया।
जो डंपिंग की थी वही बन गई मुसीबत
मल्याणा भटटाकुफर बॉयपास पर बनाई गई हाउसिंग बोर्ड काॅलोनी संजौली के नाले में बीते कई सालों में अवैध तरीके से मलबा गिराया जा रहा है। ऐसे में अब ये पूरा मलबा बारिश के चलते सड़क पर आ रहा है। अवैध डंपिंग के चलते अब बरसात के मौसम में लोगों की मुसीबतें इससे बढ़ती जा रही है। मलबे में पानी के साथ बड़े पत्थर बहकर मुख्य मार्ग पर आकर जमा हो जाते हैं, इससे यातायात तो अवरुद्ध होता है ही साथ ही यहां से गुजरना खतरे से भरा रहता है।
Advertisement

Dainik Bhaskar Brings you the latest Hindi News

टॉप न्यूज़और देखें

Advertisement

बॉलीवुड और देखें

स्पोर्ट्स और देखें

Advertisement

Dainik Bhaskar Brings you the latest Hindi News

जीवन मंत्रऔर देखें

राज्यऔर देखें

वीडियोऔर देखें

बिज़नेसऔर देखें