Advertisement

Dainik Bhaskar Brings you the latest Hindi News

लगातार 27वें दिन बढ़े पेट्रोल-डीजल के दाम

पेट्रोल-डीजल के दाम रोजाना बढ़ने से आम लोग परेशान हैं, पर राज्य सरकारों का फायदा बढ़ रहा है। एसबीआई रिसर्च की रिपोर्ट...

Bhaskar News Network | Sep 12, 2018, 02:12 AM IST
पेट्रोल-डीजल के दाम रोजाना बढ़ने से आम लोग परेशान हैं, पर राज्य सरकारों का फायदा बढ़ रहा है। एसबीआई रिसर्च की रिपोर्ट के मुताबिक ज्यादा दाम से 19 प्रमुख राज्यों को 2018-19 में 22,702 करोड़ रु. की अतिरिक्त कमाई होगी। यह आकलन साल में कच्चे तेल की औसत कीमत 75 डॉलर बैरल और डॉलर का मूल्य 72 रुपए मान कर किया गया है। रिपोर्ट में कहा गया है कि राज्य पेट्रोल के दाम औसतन 3.20 रु. और डीजल के 2.30 रु. घटा दें, तब भी रेवेन्यू उनके बजट अनुमान के बराबर रहेगा। राज्य पेट्रोल-डीजल की कीमत और डीलर कमीशन पर वैट वसूलते हैं। जिन 19 राज्यों पर रिसर्च है, वहां पेट्रोल पर वैट 24% से 39% तक और डीजल पर 17% से 28% तक है। कीमत बढ़ने के साथ वैट के रूप में वसूली बढ़ने से राज्यों की कमाई भी बढ़ जाती है। केंद्र की एक्साइज ड्यूटी फिक्स्ड होती है। अभी पेट्रोल पर यह 19.48 रु. और डीजल पर 15.33 रु. लीटर है। राजस्थान और आंध्रप्रदेश सरकार के बाद प. बंगाल ने राज्य में पेट्रोल-डीजल की कीमत एक रु. घटा दी।

Advertisement

Dainik Bhaskar Brings you the latest Hindi News

टॉप न्यूज़और देखें

Advertisement

बॉलीवुड और देखें

स्पोर्ट्स और देखें

Advertisement

Dainik Bhaskar Brings you the latest Hindi News

जीवन मंत्रऔर देखें

राज्यऔर देखें

वीडियोऔर देखें

बिज़नेसऔर देखें