Advertisement

Dainik Bhaskar Brings you the latest Hindi News

व्यापारियों को 440 वॉल्ट का झटका; पंजाब में इंडस्ट्री से एक महीने का एडवांस बिल लेगा पावरकॉम

- व्यापारी उतरे विराेध में, कहा- मिनिमम सरचार्ज के बाद अब एडवांस बिल का भी बोझ डाल दिया

Bhaskar News | Jul 01, 2018, 02:20 AM IST

पटियाला. सूबे में मंदी की मार झेल रही इंडस्ट्री काे पावरकॉम ने झटका दिया है। पावरकॉम ने उन्हें एडवांस बिल देने का फरमान जारी कर दिया है। पावरकॉम के आदेशों के अनुसार इंडस्ट्री काे एक महीने का बिल एडवांस जमा करवाना होगा। कारोबारियों को पावरकॉम ने एडवांस बिल भेजने भी शुरू कर दिए हैं। यह वह बिजली बिल हाेगा, जिसका अमाउंट सबसे ज्यादा हाेगा। वहीं पॉवरकाम के इस आदेश के बाद कारोबारी विरोध में उतर आए हैं। उनका कहना है कि सरकार ने चुनाव के समय 5 रुपए यूनिट बिजली देने का वादा किया था। वह उसे पूरा नहीं कर सकी। मिनिमम सरचार्ज के बाद अब एडवांस बिल का भी बोझ डाल दिया। 

 

जिले के 300 उद्यमियों पर 1.75 करोड़ का बोझ: कारोबारियों को पावरकॉम ने एडवांस बिल भेजने भी शुरू कर दिए हैं। यह वह बिजली बिल हाेगा, जिसका सबसे ज्यादा अमाउंट हाेगा। वहीं पॉवरकाम के इस आदेश के बाद कारोबारी विरोध में उतर आए हैं। उनका कहना है कि पहले तो पंजाब सरकार ने वादा किया था कि पांच रुपए यूनिट बिजली देंगे लेकिन अब एडवांस बिल लेकर यह साबित कर रहा है कि सरकार दिवालिया हो गई है। पॉवरकॉम के इस आदेश के बाद पटियाला में करीब 300 कारोबारियों को एडवांस में बिल देना होगा। पटियाला में कटिंग टूल की 100 से 110 यूनिट, शुगरमिल के स्पेयर पार्ट्स की 3, प्लास्टिक दाना की करीब 100 से 120 यूनिट हैं। 300 कारोबारियों का रोजाना करीब 19 करोड़ रुपए का व्यापार है। सभी यूनिटों का लगभग महीने का बिल 1 करोड़ 75 लाख रुपए बनता है। कटिंग टूल बनाने के लिए जानी जाती है जिले की इंडस्ट्री, पावरकॉम के इस फैसले का विरोध करेंगे इंडस्ट्रियलिस्ट, बोले-जब हर तरह का टैक्स दे रहे हैं तो एडवांस बिल क्यों? 

 

बर्बाद हो जाएगी इंडस्ट्री: यह पॉलिसी पंजाब से इंडस्ट्री बाहर भेजने की तैयारी है। इस तरह से कारोबारियों को परेशान किया जा रहा है। मंदी के दौरा पर गुजर रही है इंडस्ट्री , पंजाब सरकार को राहत देनी चाहिए। सरकार की तरफ से अपील है कि वह एेसे फैसले न ले। -रोहित बांसल, कारोबारी 

 

सरकार का फैसला है हम तो पालन कर रहे हैं: एडवांस बिल लेने का सरकार का फैसला है। हम तो सरकारी आदेशों का पालन कर रहे हैं। व्यापारियों को सरकार के पास अपनी बात रखने का पूरा हक है। अगर उन्हें इस फैसले से एतराज है तो राज्य सरकार के या सीएम के जो भी आदेश होंगे वह तो उसी के अनुसार काम करेंगे। -एस के पुरी डॉयरेक्टर पॉवरकाम 

 

यह टैक्स पावरकॉम पहले ही लगा चुकी है : पॉवरकाम कारोबारियों पर कार्पोरेशन टैक्स, टू-पार्ट, टैरिफ, पीक लाेड चार्जेस, फिक्स चार्जेस में बढ़ौतरी कर चुका है। खपतकारों के लिए यह छठा झटका है। - अश्वनी कुमार प्रधान एफपीआईए 

 

अभी तक 5 रुपए यूनिट बिजली तो दे नहीं सकी सरकार : कारोबारियों का कहना है कि पंजाब सरकार ने चुनाव के समय 5 रुपए यूनिट के हिसाब से बिजली देने का वादा किया था। वह यह काम तो कर नहीं सकी ऊपर से मिनिमम सर चार्ज और लगा दिया। मिनिमम सर चार्ज का विरोध कारोबारी पहले ही कर चुके हैं। ऊपर से अब एक महीने का और एक्सट्रा बिल देना होगा। 

 

पावरकॉम के फैसले का करेंगे विरोध: अगर पावरकॉम ने एडवांस बिल लिया तो उद्योगपति इसका विरोध करेंगे। एक तो पहले ही पांच रुपए यूनिट बिजली का बिल देने का वादा किया था। ऊपर से अब एक महीने का एक्सट्रा बिल थोपा जा रहा है। सरकार का यह फैसला इंडस्ट्री को बर्बाद करने का है। इससे पहले ही इंडस्ट्री पड़ोसी राज्यों में पलायन कर चुकी है। हालात यही रहे तो रहती इंडस्ट्री भी पंजाब से हरियाणा आैर हिमाचल की आेर चली आएगी। सरकार को कारोबारियों को खत्म करने की बजाय रेवेन्यू के आैर साधन खोजने चाहिए।

Advertisement

Dainik Bhaskar Brings you the latest Hindi News

टॉप न्यूज़और देखें

Advertisement

बॉलीवुड और देखें

स्पोर्ट्स और देखें

Advertisement

Dainik Bhaskar Brings you the latest Hindi News

जीवन मंत्रऔर देखें

राज्यऔर देखें

वीडियोऔर देखें

बिज़नेसऔर देखें