Advertisement

Dainik Bhaskar Brings you the latest Hindi News

देश में दो साल में रेबीज के 190 मामले, इलाज के दौरान सभी की मौत; पुणे में तैयार हो रही है दवा

दुनिया के करीब सभी देशों में रेबीज होने के बाद शत-प्रतिशत लोगों की मौत हो जाती है

पवन कुमार | Jul 29, 2018, 06:00 AM IST

नई दिल्ली/पुणे.  स्वास्थ्य विभाग की रिपोर्ट के मुताबिक देश में पिछले दो वर्ष में रेबीज के 190 मरीज सामने आए हैं। इलाज के दौरान सभी की मौत हो गई। दुनिया के करीब सभी देशों में रेबीज होने के बाद शत-प्रतिशत लोगों की मौत हो जाती है। अमेरिका एक मात्र देश है, जहां ऐसे सात मरीजों की जान बच पाई है। वह भी इसलिए, क्योंकि इन मरीजों को कभी न कभी रेबीज का टीका लगा था। एक बार टीका लगने पर पांच से सात वर्ष तक असर रहता है। अभी बाजार में रेबीज से बचाव के लिए जो टीका उपलब्ध है, उसका असर पांच से सात वर्ष ही रहता है। अब एक भारतीय कंपनी ने रेबीज से बचाव के लिए टीका विकसित किया है, जिस पर दिल्ली के सर गंगा राम अस्पताल में अध्ययन किया जा रहा है।

 

अगले दो से तीन हफ्ते में नतीजों की उम्मीद: सर गंगा राम अस्पताल के मेडिसिन विभाग के वाइस चेयरमैन डॉ. अतुल कक्कड़ ने बताया कि 40 मरीजों पर अध्ययन किया जा रहा है। अब उन्हें एंटी रेबीज वैक्सीन दिया गया है। वैक्सीन देने के बाद मरीज के शरीर में रेबीज से बचाव के लिए एंटीबॉडीज के स्तर जांचने के लिए अध्ययन किया जा रहा है। उम्मीद है कि अगले दो से तीन सप्ताह में इसका परिणाम आ जाए। इसके बाद ही पता चल पाएगा कि अभी तक बाजार में उपलब्ध वैक्सीन से नया वैक्सीन कितना कारगर है।

 

 

पुणे में तैयार हो रही है रेबीज की दवा: वर्द्धमान महावीर मेडिकल कॉलेज के मेडिसिन विभाग के प्रमुख डॉ. वीके त्रिपाठी ने बताया कि पुणे के नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी में दवा तैयार की जा रही है। रेबीज होने के बाद जो कॉम्प्लीकेशन्स होते हैं उनका इलाज किया जाता है, लेकिन जान बचाना मुश्किल है। डॉ. त्रिपाठी ने बताया कि विश्व में सिर्फ अमेरिका में ही सात ऐसे मरीज सामने आए हैं, जिन्हें रेबीज हुआ, लेकिन उनकी जान बच गई। हालांकि, इन मरीजों को पार्सियल वैक्सीनेशन बहुत साल पहले हुआ था, कुछ लोग ऐसे होते हैं, जिनमें एंटी रेबीज वैक्सीन का एंटीबॉडीज कई साल शरीर में रह जाता है।

Advertisement

Dainik Bhaskar Brings you the latest Hindi News

टॉप न्यूज़और देखें

Advertisement

बॉलीवुड और देखें

स्पोर्ट्स और देखें

Advertisement

Dainik Bhaskar Brings you the latest Hindi News

जीवन मंत्रऔर देखें

राज्यऔर देखें

वीडियोऔर देखें

बिज़नेसऔर देखें