Advertisement

Dainik Bhaskar Brings you the latest Hindi News

यूएस ओपन के फाइनल में नियमों को तोड़ने के लिए सेरेना पर लगा 12 लाख रुपए का जुर्माना

फाइनल में जापान की नाओमी ओसाका ने सेरेना विलियम्स को हराकर पहला ग्रैंडस्लैम खिताब जीता था

DainikBhaskar.com | Sep 10, 2018, 11:54 AM IST

 

सेरेना ने कहा था कि उन्होंने कभी बेईमानी नहीं की अंपायर पर लगाया था लैंगिंक भेदभाव का आरोप 

खेल डेस्क.   अमेरिकी टेनिस एसोसिएशन ने सेरेना विलियम्स पर यूएस ओपन के फाइनल में नियमों को तोड़ने के लिए 12.26 लाख रुपए (17 हजार डॉलर) का जुर्माना लगाया है। सेरेना महिला एकल के फाइनल में जापान की नाओमी ओसाका से हार गईं थीं। 

एसोसिएशन ने सेरेना को तीन मामले में जुर्माना लगाया। इसमें मैच के दौरान कोचिंग लेने के लिए 2.88 लाख रुपए (4 हजार डॉलर), रेकैट पटकने के लिए 2.16 लाख रुपए (3 हजार डॉलर) और चेयर अंपायर के साथ बदसलूकी करने पर 7.21 लाख रुपए (10 हजार डॉलर) का जुर्माना शामिल है। 

सेरेना पर लगा एक गेम का जुर्माना: ओसाका ने मैच का पहला सेट आसानी से जीत लिया था। दूसरे सेट में सेरेना वापसी की कोशिशें कर रही थीं। इस दौरान उनके कोच ने टिप्स देने के लिए कुछ इशारा किया। मैच के दौरान चेयर अंपायर ने एक गेम का जुर्माना लगा दिया। कोच के इशारे को अंपायर ने नियमों का उल्लंघन माना गया। अंपायर कार्लोस रामोस के फैसले के बाद सेरेना ने गुस्से में अपना रैकेट पटक दिया। इसके बाद उन्हें चोर तक कह दिया।

सेरेना ने कहा था-जुर्माना लगाना ठीक नहीं: सेरेना ने कहा था, "उन्होंने बेईमानी नहीं की। अंपायर ने उनके साथ लैंगिंक भेदभाव किया। एक गेम का जुर्माना लगाना ठीक नहीं था। पुरुषों के मुकाबलों में अगर यही होता तो अंपायर जुर्माना नहीं लगाते।" कोच मोराटोग्लू ने सेरेना को मैच के दौरान इशारा करने की बात मान ली थी। नियमों के हिसाब से उनका रवैया ठीक नहीं था। ग्रैंडस्लैम टूर्नामेंट में कोर्ट पर कोचिंग देना प्रतिबंधित है। हालांकि, अन्य सभी मैचों में ऐसा करना मान्य है।

 

 

Advertisement

Dainik Bhaskar Brings you the latest Hindi News

टॉप न्यूज़और देखें

Advertisement

बॉलीवुड और देखें

स्पोर्ट्स और देखें

Advertisement

Dainik Bhaskar Brings you the latest Hindi News

जीवन मंत्रऔर देखें

राज्यऔर देखें

वीडियोऔर देखें

बिज़नेसऔर देखें