--Advertisement--

आपका करामाती दिल/ 13 सेंटीमीटर की एक मांसपेशी होता है दिल, मां की कोख में 23 दिन बाद धड़कना शुरू होता है

आगुमेंटेड रिअलिटी में देखें कि वास्तव में आपका हृदय दिखता कैसा है? इसकी संरचना कैसी है?

Danik Bhaskar | Sep 14, 2018, 06:08 PM IST
हमारा दिल (हृदय) 13 सेंटीमीटर लम्बा और 9 सेंटीमीटर चौड़ा लाल रंग का तिकोना, खोखला एवं मांसल अंग होता है, जो पेशीय टिश्यू का बना होता है। यह छाती के बीच में, थोड़ी सा बाईं ओर स्थित होता है और एक दिन में लगभग एक लाख बार एवं एक मिनट में 60 से 90 बार धड़कता है।  यह एक आवरण द्वारा घिरा रहता है जिसे हृदयावरण कहते है। इसमें पेरिकार्डियल द्रव भरा रहता है जो हृदय की बाहरी आघातों से रक्षा करता है। यह हर धड़कन के साथ शरीर में रक्त को धकेलता करता है। यह हर एक मिनट में 70 मिलीलीटर खून पम्प करता है। हृदय को पोषण एवं ऑक्सीजन, रक्त के द्वारा मिलता है जो कोरोनरी धमनियों द्वारा प्रदान किया जाता है। यह अंग दो भागों में विभाजित होता है, दायां एवं बायां। हृदय के दाहिने एवं बाएं, प्रत्येक ओर दो चैम्बर (एट्रिअम एवं वेंट्रिकल नाम के) होते हैं। कुल मिलाकर हृदय में चार चैम्बर होते हैं। दाहिना भाग शरीर से दूषित रक्त प्राप्त करता है एवं उसे फेफडों में पम्प करता है और रक्त फेफडों में शोधित होकर ह्रदय के बाएं भाग में वापस लौटता है जहां से वह शरीर में वापस पम्प कर दिया जाता है। चार वॉल्व, दो बाईं ओर (मिट्रल एवं एओर्टिक) एवं दो हृदय की दाईं ओर (पल्मोनरी एवं ट्राइक्यूस्पिड) रक्त के बहाव को निर्देशित करने के लिए एक-दिशा के द्वार की तरह कार्य करते हैं। सामान्यतः एक स्वस्थ व्यक्ति का हृदय एक मिनट में 72 बार धड़कता है लेकिन यह एक पूरी तरह से सही तथ्य नहीं है। कभी कभी हृदय 72 बार से ज्यादा या कम भी धड़क सकता है और इससे व्यक्ति के स्वस्थ्य पर कोई प्रभाव नहीं पड़ता। आमतौर पर, एक शिशु का हृदय उसके भ्रूण विकसित होने के 23 दिनों बाद धड़कना शुरू कर देता है। इस क्रिया में माँ का हृदय एक मिनट में 75 से 80 बार धड़कता है। 
--Advertisement--

टॉप न्यूज़और देखें

बॉलीवुड और देखें

स्पोर्ट्स और देखें

--Advertisement--

जीवन मंत्रऔर देखें

राज्यऔर देखें

वीडियोऔर देखें

बिज़नेसऔर देखें