Advertisement

Dainik Bhaskar Brings you the latest Hindi News

किम जोंग के भरोसेमंद साथी वाले बयान की ट्रम्प ने की तारीफ, कहा- कोरिया को परमाणु मुक्त बनाने के लिए साथ काम करेंगे

DainikBhaskar.com | Sep 06, 2018, 05:35 PM IST

पिछले महीने ही उत्तर कोरिया पर परमाणु अप्रसार में देरी का आरोप लगाकर ट्रम्प ने पोम्पियो का दौरा रद्द कर दिया था

-- पूरी ख़बर पढ़ें --

वॉशिंगटन. अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने गुरुवार को उत्तर कोरिया के तानाशाह किम जोंग-उन की तारीफ की। दरअसल, किम ने दक्षिण कोरिया के प्रतिनिधियों से कहा था कि ट्रम्प पर उनका भरोसा बना हुआ है। उत्तर कोरिया उनके पहले ही कार्यकाल में परमाणु मुक्त होने की कोशिश करेगा। इसी पर प्रतिक्रिया में ट्रम्प ने ट्वीट में लिखा कि वह किम के साथ हैं और कोरिया को परमाणु मुक्त बनाने का काम वह साथ मिलकर करेंगे।

ट्रम्प ने रद्द किया था पोम्पियो का उत्तर कोरिया दौरा:ट्रम्प ने पिछले महीने विदेश मंत्री माइक पॉम्पियो का उत्तर कोरिया दौरा रद्द कर दिया था। उस दौरान ट्रम्प ने आरोप लगाया था कि उत्तर कोरिया ने परमाणु निरस्त्रीकरण के लिए कोई खास प्रयास नहीं किए। ट्रम्प का विदेश मंत्री को उत्तर कोरिया नहीं भेजने का फैसला चौंकाने वाला माना जा रहा था, क्योंकि 12 जून को सिंगापुर में उत्तर कोरिया के तानाशाह किम जोंग उन से बातचीत के लिए ट्रम्प खुद तैयार हुए थे।

अंतरराष्ट्रीय संस्था की रिपोर्ट के बाद लिया था बताचीत रोकने का फैसला:ट्रम्प ने पोम्पियो को रोकने का फैसला दुनियाभर के देशों में परमाणु कार्यक्रमों पर नजर रखने वाली संयुक्त राष्ट्र (यूएन) की एजेंसी की रिपोर्ट के आधार पर लिया था। इसमें कहा गया था कि परमाणु हथियार खत्म करने में उत्तर कोरिया कोई दिलचस्पी नहीं दिखा रहा। अंतरराष्ट्रीय परमाणु ऊर्जा एजेंसी (आईएईए) की रिपोर्ट के हवाले से एक अधिकारी ने कहा, “उत्तर कोरिया के परमाणु कार्यक्रम जारी रखने और इसके लिए सामने आए उनके बयान चिंताजनक हैं।” रिपोर्ट में कहा गया है कि मई में एक न्यूक्लियर साइट का स्टीम प्लांट शुरू हुआ था।

सिंगापुर में हुआ था कोरिया को परमाणु मुक्त करने का वादा:परमाणु हथियारों के निशस्त्रीकरण को लेकर जून में किम और ट्रम्प के बीच सिंगापुर में बैठक हुई थी। इस दौरान किम ने कोरियाई प्रायद्वीप में परमाणु कार्यक्रम रोकने को लेकर सहमति जताई थी। लेकिन इसके बाद कोई कारगर कदम नहीं उठाए गए। इस बैठक से पहले अप्रैल में किम और दक्षिण कोरिया के राष्ट्रपति मून जे इन पहली बार मिले थे। तब भी किम ने कोरिया को परमाणु मुक्त करने पर प्रतिबद्धता जताई थी।