Advertisement

Dainik Bhaskar Brings you the latest Hindi News

विवि और कॉलेज प्रशासन को छात्र हितों का पूरा ख्याल रखना होगा: राज्यपाल

Pankaj Kumar Singh | Sep 11, 2018, 07:22 PM IST

राज्यपाल लालजी टंडन ने साफ शब्दों में कहा कि विश्वविद्यालय और कॉलेज प्रशासन को छात्र हितों का पूरा ख्याल रखना होगा।

-- पूरी ख़बर पढ़ें --

पटना. राज्यपाल लालजी टंडन ने साफ शब्दों में कहा कि विश्वविद्यालय और कॉलेज प्रशासन को छात्र हितों का पूरा ख्याल रखना होगा। मंगलवार को छात्र संघों के नेताओं और प्रतिनिधियों की शिकायतों को राजयपाल ने गंभीरता से सुना और समुचित कार्रवाई का निर्देश दिया। राज्यपाल ने कहा कि वित्तीय अनियमितता की शिकायतों पर सख्ती बरती जाएगी। शिकायतों पर जांच कर आवश्यक कार्रवाई होगी। छात्र हितों को किसी हाल में नजरअंदाज नहीं होने दिया जाएगा।

छात्र संघों के नेताओं ने राज्यपाल से शिकायत किया कि विश्वविद्यालय के पदाधिकारी मुलाकात से परहेज करते हैं। छात्रों की समस्या समाधान के लिए समुचित कार्रवाई भी नहीं करते हैं। बीआरए बिहार विवि के महंथ शिवशंकर गिरि कॉलेज के छात्र पदाधिकारियों ने राज्यपाल को बताया कि उनके कॉलेज में विभिन्न प्रकार की वित्तीय अनियमिता के मामले हैं। इन मामलों में गंभीरता से कार्रवाई नहीं सकी है।

वीर कुंवर सिंह विवि के तहत कार्यरत भारतीय राष्ट्रीय छात्र संगठन के छात्र प्रतिनिधियों और वीर कुंवर सिंह विवि के पूर्व सीनेट सदस्य अजय कुमार तिवारी ने भी राज्यपाल से मुलाकात कर अपने विवि व कॉलेज की समस्याओं से अवगत कराया। राज्यपाल ने छात्र नेताओं एवं पूर्व सीनेट सदस्य से प्राप्त आवेदन पर समुचित कार्रवाई का निर्देश प्रधान सचिव विवेक कुमार सिंह को दिया।

राज्यपाल ने छात्र नेताओं से कहा कि अपनी मांग तर्कपूर्ण और तथ्यात्मक रूप से विवि के पदाधिकारियों से सामने रखें। छात्र संघों के निर्वाचित पदाधिकारियों और सभी छात्र संगठनों के पदाधिकारी या प्रतिनिधि से विश्वविद्यालय के पदाधिकारियों को समय निर्धारित कर निश्चित रूप से मिलना चाहिए। उन्होंने कहा कि छात्र संघों के पदाधिकारी, विश्वविद्यालय की समयाओं का अत्यंत व्यावहारिक समाधान का सुझाव देते हैं।

विश्वविद्यालय प्रशासन ही छात्रों के लिए अध्ययन सुविधा के विकास और उनकी समस्याओं के निराकरण के लिए जिम्मेदार है। छात्र संघों की मांगों और अनुरोध पर विश्वविद्यालय प्रशासन को गंभीर होना होगा। विश्वविद्यालय और महाविद्यालय के विकास में विद्यार्थियों की पूरी सहभागिता सुनश्चित करनी होगी।