Advertisement

Dainik Bhaskar Brings you the latest Hindi News

मोहर्रम/ बोहरा समाज के धर्मगुरु की वाअज़ शुरू, 50 हजार से ज्यादा लोग हुए शामिल

Dainik Bhaskar | Sep 12, 2018, 10:10 AM IST
धर्मगुरु की वाअज 9 दिनों तक चलेगी।
-- पूरी ख़बर पढ़ें --

वाअज 9 दिनों तक सुबह 10 से दोपहर 2 बजे तक होगी

Dainik Bhaskar

Sep 12, 2018, 10:10 AM IST

इंदौर. दाऊदी बोहरा समाज के 53वें धर्मगुरु सैयदना आलीकदर मुफद्दल सैफुद्दीन मौलाकी बुधवार से सैफी नगर मसजिद में वाअज़शुरू हुई। वाअज 9 दिनों तक सुबह 10 से दोपहर 2 बजे तक होगी।पहले ही दिन वाअज सुनने50 हजार से ज्यादा समाजजनपहुंचे।देश के साथ ही विदेशों से भी बड़ी संख्या में समाजजनवाअज सुनने इंदौर पहुंचे हैं। वाअज में शामिल होने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी 14 सितंबर को इंदौर आएंगे। बोहरा समाज के इतिहास में ऐसा पहली बार होगा, जब किसी वाअज़ में कोई प्रधानमंत्री शामिल होंगे और उनके संबोधन के लिए वाअज़ रोकी जाएगी।

पहली बार इतना बड़ा राहत ब्लॉक बना :दुनिया में पहली बार मोहर्रम की वाअज़ के लिए इतना बड़ा राहत ब्लॉक इंदौर में बनाया गया है। सैफी नगर मसजिद के पास ही हकीमी गार्डन में रोजाना चार हजार दिव्यांग, बुजुर्ग और विशिष्ट लोग मौला की वाअज़ सुनेंगे। 600 लोग यहां की व्यवस्था में रहेंगे। हर दिन वाअज़ के बाद सैयदना इन्हें दीदार देने यहां आएंगे। ये जमीन पर नहीं बैठ सकते, इसलिए कुर्सियां लगाई गई हैं और खाने की व्यवस्था के लिए विशेष स्टैंड मंगवाए गए हैं। लंदन से आए वाअज सुनने :लंदन से पहली बार इंदौर आए दंपती शब्बीर ट्रंकवाला और तसनीम ट्रंकवाला ने बताया सैयदना की वाअज सुनने के लिए वे इंदौर आए हैं। उनके पति 15 से ज्यादा और वे 15 वाअज में शामिल हो चुकी हैं। वे सूरत, कोलंबो, कराची सहित अन्य स्थानों पर जा चुके हैं। इंदौर के लोगों ने बहुत अच्छे से स्वागत किया है। सफाई के लिए 800 सदस्यों की नजाफत कमेटी :शहर में स्वच्छता बनी रहे, इसके लिए नजाफत कमेटी बनाई गई, जिसमें 800 लोग हैं। ये चप्पे-चप्पे पर खड़े हैं, ताकि वाअज़ के दौरान देश के सबसे स्वच्छ शहर में एक भी जगह कचरा न दिखाई दे। सैफी एम्बुलेंस और 500 डॉक्टर्स :शहर का हर वो हिस्सा जहां वाअज़ रिले की जाएगी या बोहरा समाज के 8-10 घर भी हैं, वहां सैफी एम्बुलेंस खड़ी की गई है। शहर के 500 डॉक्टर्स मेडिकल इमरजेंसी के लिए उपलब्ध रहेंगे। आईटीएस कार्ड वेरिफिकेशन :हरेक शख्स जो वाअज़ सुनने आया है, उसे शहर में जगह-जगह लगे काउंटर्स पर आईटीएस वेरिफिकेशन कराना जरूरी है। इसमें नाम, देश, शहर, पता और शिक्षा के साथ ब्लड ग्रुप की जानकारी भी है।

50 मेगा स्क्रीन पर लाइव

40 हजार लोग एक साथ मसजिद में सुन सकेंगे वाअज़। 1 लाख 96 हजार 303 से ज्यादा रजिस्ट्रेशन हो चुके। 14 हजार समाजजन विदेश से पहुंचे। 1486 पाकिस्तान से अाए। 6 हजार बुरहानी गार्ड और 9 हजार वॉलेंटियर्स मौजूद रहेंगे। 40 हेल्प सेंटर बनाए गए हैं। 300 डॉक्टर 24 घंटे सेवा देंगे।