फैक्ट चेक / समु्द्री जीव का फोटो सोशल मीडिया में वायरल, यूजर लिख रहे - पीने का पानी देखकर पीएं

  • क्या वायरल : एक पारदर्शी जीव के फोटो। सलाह दी जा रही कि, पानी को उबालकर और देखकर पीएं। कुछ लोगों ने यह भी लिखा है कि, यह कीड़ा बाहर देश से इंडिया में आ चुका है
  • क्या सच : यह एक समुद्री जीव है। इसका पीने के पानी में पाए जाने का अभी तक कोई मामला सामने नहीं आया

Dainik Bhaskar

Sep 16, 2019, 03:21 PM IST

फैक्ट चेक डेस्क. सोशल मीडिया में एक जीव की फोटोज वायरल हो रही हैं। कोई इसे ट्रांसपेरेंट फिश कह रहा है तो कोई ट्रांसपेरेंट कीड़ा। इसके साथ में लिखा जा रहा है कि यह जानवर पानी में रहता है इसलिए पानी सावधानी से पीएं। पानी को अच्छी तरह उबालने के बाद ही पीएं। दैनिक भास्कर मोबाइल ऐप के एक पाठक ने हमें यह मैसेज फॉरवर्ड किया और इसकी सत्यता जाननी चाही। पड़ताल में पता चला कि सिर्फ भारत ही नहीं बल्कि दुनियाभर में इस जीव की फोटो और यह मैसेज 2014 से ही वायरल किया जा रहा है। जबकि इसके पीने के पानी में पाए जाने का मामला कहीं भी सामने नहीं आया। जानिए इसकी पूरी हकीकत।

क्या वायरल
फेसबुक, ट्विटर से लेकर यूट्यूब तक इस जीव के फोटोज वायरल किए जा रहे हैं। मैसेज के साथ में चेतावनी भी जारी की जा रही है।

फेसबुक पर भी इसे वायरल किया जा रहा है।

क्या है सच्चाई

  • पड़ताल में पता चला कि, सोशल मीडिया में जिस जीव की फोटोज वायरल की जा रही हैं, वह एक तरह की मछली है। साइंसटेक डेली के मुताबिक, समुद्री ईल और सुपरऑर्डर एलोपोमोर्फ के अन्य सदस्यों में एक लेप्टोसेफालस लार्वा चरण होता है, जो सपाट और पारदर्शी होते हैं।
  • यह समूह काफी विविधतापूर्ण होता है। इसमें 801 प्रजातियां होती हैं। लेप्टोसेफेलस लार्वा स्टेज वाली मछलियों में कॉनर, मोरे ईल और गार्डन ईल जैसे ईल शामिल हैं।

  • इनके अंदर जेली जैसा पदार्थ पाया जाता है। बाहर मायोमेरेस के साथ मांसपेशियों की एक पतली परत होती है। यह 5 सेंटीमीटर से लेकर 30 सेंटीमीटर तक लंबी हो सकती हैं।

  • विशेषज्ञों के मुताबिक, यह जीव समुद्रों में ही पाया जाता है, इसलिए इसका पीने के पानी में आने की आशंका न के बराबर होती है।
  • हमें सर्चिंग में किसी विश्वसनीय मीडिया ब्रांड की ऐसी खबर नहीं मिली, जिसमें यह पाया गया हो कि यह जीव पीने के पानी में पाया गया है।
  • विदेशों में भी इस वायरल मैसेज का फैक्ट चेक किया जा चुका है। जहां इसे गलत पाया गया।

निष्कर्ष : यह समुद्री जीव की फोटो हैं। इसके पीने के पानी में आने की आशंका न के बराबर है। फिर भी विशेषज्ञ सलाह देते हैं कि पानी को उबालकर और अच्छे से देखकर ही पीना चाहिए।

Share
Next Story

फैक्ट चेक / चंद्रयान-2 ने नहीं भेजी ये तस्वीरें, सालों पुराने वॉलपेपर्स को पृथ्वी की पहली बार आईं तस्वीरें बताया जा रहा

Next

Dainik Bhaskar Brings you the latest Hindi News

Recommended News