Advertisement

Dainik Bhaskar Brings you the latest Hindi News

राजस्थान में अशोक गहलोत मुख्यमंत्री-पायलट उप मुख्यमंत्री होंगे- राहुल बोले- ये राजस्थान की एकता का रंग

अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) को राजस्थान का अगला मुख्यमंत्री बनाया जा रहा है। सचिन पायलट को मना लिया गया है।

DainikBhaskar.com | Dec 14, 2018, 04:09 PM IST

जयपुर/नई दिल्ली. करीब ढाई दिन की मशक्कत के बाद आखिर 67 साल के अशोक गहलोत को राजस्थान का मुख्यमंत्री बनाने का फैसला कांग्रेस आलाकमान ने ले लिया है। यह जानकारी न्यूज एजेंसी एएनआई ने सूत्रों के हवाले से दी है। एजेंसी के मुताबिक, सचिन पायलट डिप्टी सीएम यानी उप मुख्यमंत्री बनाए जाएंगे। इसके साथ ही वो राजस्थान कांग्रेस के प्रमुख भी बने रहेंगे। यह जानकारी न्यूज एजेंसी ने ही दी है। बता दें कि राजस्थान के सीएम की रेस में दो नाम थे। सचिन पायलट (Sachin Pilot) और अशोक गहलोत (Ashok Gehlot)। 67 साल के गहलोत अब तक वही काम कर रहे हैं जो कभी दिग्विजय सिंह करते थे। यानी राहुल गांधी के प्रमुख सलाहकारों में से एक हैं। राहुल गांधी ने एक तस्वीर ट्वीट की। इसमें राहुल के साथ गहलोत और पायलट नजर आ रहे हैं। 

गहलोत का पलड़ा क्यों भारी रहा?
राजस्थान में कांग्रेस 99 सीटों पर है। इसलिए अशोक गहलोत के मुख्यमंत्री बनने के आसार ज्यादा हैं। गहलोत संकट मोचक हैं और अन्य दलों से उनका मैनेजमेंट भी अच्छा है। इसके पहले भी जब गहलोत मुख्यमंत्री थे तो उन्हें पूर्ण बहुमत नहीं मिला था। 96 सीटों के साथ कांग्रेस सरकार बनी थी और गहलोत ने सफलतापूर्वक पांच साल राज किया था।  

जानिए अशोक गहलोत को (know about Ashok Gehlot)
अशोक गहलोत का जन्म 3 मई 1951 को जोधपुर (राजस्थान) में हुआ। गहलोत ने विज्ञान और कानून में ग्रैजुएशन की डिग्री ली। इसके बाद उन्होंने अर्थशास्त्र विषय में पीजी किया।  अशोक गहलोत के पूर्वजों का पेशा जादूगरी था। गहलोत के पिता स्व. लक्ष्मण सिंह गहलोत जादूगर थे। खुद गहलोत ने भी अपने पिता से ही जादू सीखा था। कुछ वक्त उन्होंने इस पेशे में हाथ भी आजमाए। लेकिन अशोक की नियति यह नहीं थी, उन्हें तो राजनीति के मैदान में जनता के बीच रहना था। गहलोत, स्टूडेंट लाइफ से ही राजनीति में दिलचस्पी रखने लगे थे। स्कूली दिनों से ही वे समाजसेवा में भी सक्रिय हो चुके थे। 1973 से 1979 में कांग्रेस के छात्र संगठन, NSUI के राजस्थान प्रेसिडेंट भी रहे। वह 7वीं लोकसभा के लिए वर्ष 1980 में पहली बार जोधपुर संसदीय क्षेत्र से कांग्रेस के टिकट पर सांसद चुने गए थे। उन्होंने जोधपुर संसदीय क्षेत्र का 8वीं लोकसभा, 10वीं लोकसभा, 11वीं लोकसभा और 12वीं लोकसभा में संसदीय चुनाव जीता। गहलोत ने इंदिरा गांधी, राजीव गांधी और पी.वी.नरसिम्हा राव के मंत्रिमंडल में केन्द्रीय मंत्री के रूप में भी कार्य किया। वे दो बार केंद्रीय मंत्री भी रह चुके हैं। जबकि दो बार मुख्यमंत्री के तौर पर राजस्थान की सरकार का नेतृत्व भी किया। वह पहली बार 1 दिसबंर 1998 में को मुख्यमंत्री बने और पांच साल तक कांग्रेस सरकार चलाई। इसके बाद 2008 में फिर कांग्रेस को सत्ता मिली और इस बार गहलोत ही दूसरी बार मुख्यमंत्री बने। अब वे तीसरी बार राजस्थान के सीएम बनेंगे। 

जानिए सचिन पायलट को (know about Sachin Pilot)
सचिन पायलट का जन्म यूपी के सहारनपुर में राजेश और रमा पायलट के घर में हुआ था। उस वक्त उनके पिता एयरफोर्स में थे। इसलिए सचिन की शुरुआती पढ़ाई दिल्ली के एयरफोर्स स्कूल से हुई। जिसके बाद उन्होंने सेंट स्टीफन कॉलेज से बीए की डिग्री ली। गाजियाबाद के एक कॉलेज से मार्केटिंग में डिप्लोमा करने के बाद सचिन ने यूएस की वॉरटन यूनिवर्सिटी से एमबीए की पढ़ाई की। पायलट परिवार में उनकी एक बहन सारिका भी हैं। सचिन की शादी जम्मू-कश्मीर में अब्दुल्ला परिवार की बेटी सारा के साथ हुई। ये एक लव मैरिज थी। शादी के कुछ महीनों बाद ही सचिन ने राजनीति के मैदान में अपनी किस्मत आजमाई। सचिन ने मात्र 26 साल की उम्र में 2009 के लोकसभा चुनावों में बड़ी जीत हासिल की। सारा और सचिन के दो बेटे आरान-वीहान हैं

Recommended