रेलवे / हमसफर ट्रेनों के हालात अच्छे नहीं; देश में 68 ट्रेन, 5 काे ही मिल रहे 100 फीसदी यात्री

48 हमसफर ट्रेन में 50 से 80% तक ही बुकिंग हो रही है।

  • हमसफर ट्रेन 16 दिसंबर 2016 को शुरू हुई थी, आज इसे तीन साल हो गए
  • पहली प्रीमियमहमसफर ट्रेन गोरखपुर से आनंद विहार के लिए शुरू हुई थी
  • ट्रेन में अभी सिर्फएसी स्लीपर कोच, द्वितीय श्रेणी स्लीपर कोच लगाने की तैयारी

Dainik Bhaskar

Dec 15, 2019, 12:26 AM IST

जोधपुर (प्रवीण धींगरा).देश में ठीक तीन साल पहले रेलवे की ओर से शुरू की गई प्रीमियम हमसफर ट्रेनों के हालात अच्छे नहीं हैं। रेलवे की ओर से हाल ही उपलब्ध करवाई गई 68 हमसफर ट्रेनों की वर्ष 2018-19 की रिपोर्ट से खुलासा हुआ है कि इनमें से महज पांच ट्रेन ही ऐसी हैं, जिनमें कोई सीट खाली नहीं जाती। हमसफर एक्सप्रेस जिनमें 30 से 40% सीट पर ही यात्री सफर करते हैं, उनकी संख्या 15 है तो 48 ट्रेन में 50 से 80% तक बुकिंग होती है।

अब कुछ ट्रेनों में द्वितीय श्रेणी स्लीपर कोच लगाने का फैसला

16 दिसंबर 2016 को पहली हमसफर ट्रेन गोरखपुर से आनंद विहार के लिए शुरू हुई थी। यात्रियों को कुछ ज्यादा किराए पर बेहतर सुविधा देने के लिए रेलवे ने इन ट्रेनों की संख्या पिछले तीन साल में 68 तक पहुंचा दी है। इस ट्रेन में केवल एसी स्लीपर क्लास के कोच ही लगाए जाते हैं। अब कुछ ट्रेनों में द्वितीय श्रेणी स्लीपर कोच लगाने का फैसला भी किया गया है। रेलवे से जुड़ी जानकारियां संग्रहित करने वाले मुकुल खट्टर को आरटीआई में रेलवे ने बताया कि सतरंगी से जबलपुर जाने वाली हमसफर ट्रेन जब जबलपुर से संतरागाची के बीच चलती है तो यात्री संख्या बढ़कर 32.16 फीसदी तक पहुंच जाती है। इसके बाद रामेश्वरम से अजमेर के लिए चल रही हमसफर ट्रेन संख्या 19604 के कोच भी खाली ही दौड़ रहे हैं। इस ट्रेन को एक साल में महज 29 फीसदी यात्री ही मिले।


इसलिए बदला पड़ा नियम
रेलवे ने खाली दौड़ रही हमसफर एक्सप्रेस में यात्रियों को आकर्षित करने के लिए कुछ समय पहले प्रीमियम किराए से राहत देने की घोषणा की थी। यह छूट करीब 35 जोड़ी हमसफर रेल गाड़ियों के लिए है, जिनमें केवल थर्ड एसी श्रेणी के कोच लगते हैं। इन ट्रेनों का तत्काल टिकट किराया भी कम किया गया है। अब तत्काल किराया मूल किराए के 1.5 गुना की बजाए 1.3 गुना होगा।

Share
Next Story

शेरगढ़ की आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं को जिला स्तर पर किया सम्मानित

Next

Dainik Bhaskar Brings you the latest Hindi News