शुभ योग / सोमवार और एकादशी का योग 26 को, विष्णुजी के साथ ही शिवजी की पूजा भी करें

  • एकादशी पर सूर्यास्त के बाद मंदिर में और तुलसी के पास जलाना चाहिए दीपक

Dainik Bhaskar

Aug 25, 2019, 01:35 PM IST

जीवन मंत्र डेस्क। सोमवार, 26 अगस्त को भाद्रपद मास के कृष्ण पक्ष की एकादशी है। इसे अजा या जया एकादशी कहा जाता है। एकादशी पर भगवान विष्णु के लिए व्रत-उपवास किए जाते हैं। सोमवार के स्वामी शिवजी हैं और इस दिन का कारक ग्रह चंद्र है। एकादशी और सोमवार का योग होने से विष्णुजी के साथ ही शिवजी और चंद्रदेव की भी पूजा करनी चाहिए। उज्जैन के ज्योतिषाचार्य पं. मनीष शर्मा के अनुसार एकादशी पर व्रत-उपवास, पूजा-पाठ करने से सभी पाप नष्ट हो सकते हैं। जानिए इस दिन कौन-कौन से शुभ काम कर सकते हैं...

  • एकादशी पर सुबह जल्दी उठें और स्नान के बाद सूर्य देव के दर्शन करें। तांबे के लोटे से जल चढ़ाएं। ऊँ सूर्याय नम: मंत्र का जाप करें। सूर्य को लाल फूल चढ़ाएं।
  • इस दिन किसी मंदिर जाएं और ध्वज यानी झंडे का दान करें। शिवलिंग के पास दीपक जलाएं और तांबे के लोटो से जल चढ़ाएं, काले तिल चढ़ाएं। ऊँ नम: शिवाय मंत्र का जाप करें।
  • इस तिथि पर सूर्यास्त के बाद घर के मंदिर में और तुलसी के पास दीपक जलाएं। हनुमानजी के सामने बैठकर सीताराम-सीताराम मंत्र का जाप 108 बार करें।
  • एकादशी की सुबह जल्दी उठें। स्नान के बाद तुलसी को जल चढ़ाएं। विष्णुजी और महालक्ष्मी की पूजा करें। पूजा की शुरुआत गणेशजी के ध्यान से करें।
  • चंद्रदेव के लिए शिवलिंग पर चांदी के लोटे से दूध चढ़ाएं। ऊँ सों सोमाय नम: मंत्र का जाप 108 बार करें।

कैसे कर सकते हैं विष्णुजी की पूजा
स्नान के बाद किसी मंदिर जाएं या घर के मंदिर में ही भगवान विष्णु की प्रतिमा के सामने बैठकर व्रत का संकल्प लें। पूजा करें। व्रत करने वाले व्यक्ति को दिनभर अन्न ग्रहण नहीं करना चाहिए, अगर ये संभव न हो तो एक समय फलाहार कर सकते हैं। पूजा किसी ब्राह्मण से करवाएंगे तो ज्यादा अच्छा रहेगा। भगवान विष्णु को पंचामृत से स्नान कराएं। इसके बाद चरणामृत ग्रहण करें। पूजा में ऊँ नमो भगवते वासुदेवाय मंत्र का जाप करना चाहिए। एकादशी व्रत के बाद द्वादशी तिथि पर सुबह स्नान के बाद पूजा करें और किसी ब्राह्मण को घर में बैठाकर भोजन कराएं। इसके बाद स्वयं भोजन ग्रहण करें।

Share
Next Story

साप्ताहिक राशिफल / बर्थ डेट के अनुसार आपके लिए कैसा रहेगा 31 अगस्त तक का समय

Next

Dainik Bhaskar Brings you the latest Hindi News

Recommended News