Advertisement

Dainik Bhaskar Brings you the latest Hindi News

पूजन/ दशहरे पर इस विधि से करें भगवान राम और शस्त्र पूजा, जानें शुभ मुहूर्त

Dainik Bhaskar | Oct 19, 2018, 11:00 AM IST

रिलिजन डेस्क. धर्म ग्रंथों के अनुसार, आश्विन मास की दशमी तिथि को विजयादशमी का पर्व मनाया जाता है। पुराणों के अनुसार, इसी दिन भगवान श्रीराम ने रावण का अंत किया था। बुराई पर अच्छाई की जीत की खुशी में ये पर्व पूरे देश में बड़े ही उत्साह के साथ मनाया जाता है। इस बार ये पर्व 18 अक्टूबर, गुरुवार तो कुछ स्थानों पर 19 अक्टूबर, शुक्रवार को मनाया जाएगा। ऐसा पंचांग भेद के कारण होगा। दशमी तिथि पर दुर्गा प्रतिमाओं का विसर्जन किया जाता है। साथ ही इस दिन भगवान श्रीराम की पूजा तथा शस्त्र पूजन करने की भी परंपरा है। आगे पढ़िए भगवान श्रीराम और शस्त्र पूजा की संपूर्ण विधि...

पूजन विधि

  1. इस विधि से करें भगवान श्रीराम की पूजा 

    दशहरे की सुबह स्नान आदि करने के बाद घर के उत्तर भाग में एक सुंदर मंडप बनाएं। उसके बीच में एक वेदी बनाएं। उसके ऊपर भगवान श्रीराम व माता सीता की प्रतिमा स्थापित करें। श्रीराम व माता सीता की पंचोपचार (गंध, चावल, फूल, धूप, दीप) से पूजन करें। इसके बाद इस मंत्र बोलें-

     

    मंगलार्थ महीपाल नीराजनमिदं हरे।
    संगृहाण जगन्नाथ रामचंद्र नमोस्तु ते।।
    ऊँ परिकरसहिताय श्रीसीतारामचंद्राय कर्पूरारार्तिक्यं समर्पयामि।

     

    इसके बाद किसी पात्र (बर्तन) में कपूर तथा घी की बत्ती (एक या पांच अथवा ग्यारह) जलाकर भगवान श्रीसीताराम की आरती करें-

     

    आरती कीजै श्रीरघुबर की, सत चित आनंद शिव सुंदर की।।
    दशरथ-तनय कौसिला-नंदन, सुर-मुनि-रक्षक दैत्य निकंदन,
    अनुगत-भक्त भक्त-उर-चंदन, मर्यादा-पुरुषोत्तम वरकी।।
    निर्गुन सगुन, अरूप, रूपनिधि, सकल लोक-वंदित विभिन्न विधि,
    हरण शोक-भय, दायक सब सिधि, मायारहित दिव्य नर-वरकी।।
    जानकिपति सुराधिपति जगपति, अखिल लोक पालक त्रिलोक-गति,
    विश्ववंद्य अनवद्य अमित-मति, एकमात्र गति सचारचर की।।
    शरणागत-वत्सलव्रतधारी, भक्त कल्पतरु-वर असुरारी,
    नाम लेत जग पवनकारी, वानर-सखा दीन-दुख-हरकी।।


    आरती के बाद हाथ में फूल लेकर यह मंत्र बोलें-
    नमो देवाधिदेवाय रघुनाथाय शार्गिणे।
    चिन्मयानन्तरूपाय सीताया: पतये नम:।।
    ऊँ परिकरसहिताय श्रीसीतारामचंद्राय पुष्पांजलि समर्पयामि।

     

    इसके बाद फूल भगवान को चढ़ा दें और यह श्लोक बोलते हुए प्रदक्षिणा करें-

    यानि कानि च पापानि ब्रह्महत्यादिकानि च।
    तानि तानि प्रणशयन्ति प्रदक्षिण पदे पदे।।

    इसके बाद भगवान श्रीराम को प्रणाम करें और कल्याण की प्रार्थना करें। इस प्रकार भगवान श्रीराम का पूजन करने से सभी मनोकामनाएं पूरी हो जाती हैं।
     

  2. विजयादशमी पर इस विधि से करें शस्त्र पूजन...

    दशहरे पर विजया नाम की देवी की पूजा की जाती है। यह पर्व शस्त्र द्वारा देश की सीमाओं की रक्षा करने वाले एवं कानून की रक्षा करने वाले अथवा शस्त्र का किसी अन्य कार्य में उपयोग करने वालें लोगों लिए महत्वपूर्ण होता है।

     

    इस दिन यह सभी अपने शस्त्रों की पूजा करते है, क्योंकि यह शस्त्र ही प्राणों की रक्षा करते हैं तथा भरण पोषण का कारण भी हैं। इन्ही अस्त्रों में विजया देवी का वास मान कर इनकी पूजा की जाती है। सबसे पहले शस्त्रों के ऊपर ऊपर जल छिड़क कर पवित्र किया जाता है फिर महाकाली स्तोत्र का पाठ कर शस्त्रों पर कुंकुम, हल्दी का तिलक लगाकर हार पुष्पों से श्रृंगार कर धूप-दीप कर मीठा भोग लगाया जाता है।  इसके बाद दल का नेता कुछ देर के लिए शस्त्रों का प्रयोग करता है। इस प्रकार से पूजन कर शाम को रावण के पुतले का दहन कर विजया दशमी का पर्व मनाया जाता है।

  3. 19 अक्टूबर के पूजन के मुहूर्त

    दोपहर - 1:13 से 1:40
    दोपहर- 2 से 3:15 तक
    शाम- 4:50 से 5:45 तक

Advertisement

Dainik Bhaskar Brings you the latest Hindi News

टॉप न्यूज़और देखें

Advertisement

बॉलीवुड और देखें

स्पोर्ट्स और देखें

Advertisement

Dainik Bhaskar Brings you the latest Hindi News

जीवन मंत्रऔर देखें

राज्यऔर देखें

वीडियोऔर देखें

बिज़नेसऔर देखें