Dainik Bhaskar Brings you the latest Hindi News

गुड फ्राइडे / इस दिन का इतिहास दुखदायी है, लेकिन प्रेम और क्षमा का महत्व बताता है यीशु का बलिदान दिवस

  • 19 अप्रैल को गुड फ्राइडे और 21 अप्रैलको मनाया जाएगा ईस्टर
  • मान्यता है किगुड फ्राइडे के तीसरे दिन ईसा मसीह दोबारा जीवित हो गए थे

Dainik Bhaskar

Apr 16, 2019, 07:08 PM IST

रिलिजन डेस्क. गुड फ्राइडे के नाम में भले ही गुड यानि किसी अच्छे की अनुभूति हो लेकिन इस दिन का इतिहास दुखदायी है, दर्दनाक है, त्रासदीपूर्ण है। क्योंकि यही वो दिन है जब दुनिया को मानवता का उपदेश देने वाले, सहनशीलता का पाठ पढ़ाने वाले, क्षमा करने की प्रेणा देने वाले ईसा मसीह को सूली पर चढ़ाया गया था। लेकिन ईश्वर के इस पुत्र ने तब भी प्रभु से यही प्रार्थना की कि हे ईश्वर इन्हें माफ करना ये नहीं जानते कि ये क्या कर रहे हैं। उन्हीं के बलिदान दिवस को गुड फ्राइडे के रुप में मनाते हैं। इस बार यह 19 अप्रैल को मनाया जाएगा।

Share
Next Story

हनुमान जयंती विशेष / तमिलनाडु के नमक्कल शहर में है 1500 साल पुराना आंजनेय मंदिर, यहां हनुमानजी करते हैं प्रकृति की उपासना

Next

Dainik Bhaskar Brings you the latest Hindi News

Recommended News