पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
No ad for you

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

सिराज ने खोले राज:आरसीबी के तेज गेंदबाज ने बाेला- केकेआर से मैच के बाद डिविलियर्स ने मेरा नाम मियां मैजिक रखा

दुबईएक महीने पहले
सिराज ने बुधवार को आईपीएल के खेले एक मैच में केकेआर के खिलाफ 8 रन देकर 3 विकेट लिए थे। उन्होंने 4 ओवर में 2 ओवर मेडन किए थे।
No ad for you

रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरू के गेंदबाज मोहम्मद सिराज ने कहा है कि टीम मे अब उनका नया नाम मियां मैजिक हो गया है। यह नाम साथी खिलाड़ी एबी डिविलियर्स ने दिया है। सभी खिलाड़ी उन्हें मियां मैजिक के नाम से ही बुलाते हैं। इससे पहले साथी खिलाड़ी प्यार से मियां कहते थे। उन्होंने बताया कि हैदराबाद में एक- दूसरे को सम्मान देने के लिए मियां कहा जाता है। ऐसे में साथी खिलाड़ी उन्हें मियां कहकर बुलाते थे।

सिराज ने केकेआर के खिलाफ 2 ओवर मेडन किए

सिराज ने बुधवार को आईपीएल के खेले एक मैच में केकेआर के खिलाफ 8 रन देकर 3 विकेट लिए थे। उन्होंने 4 ओवर में 2 ओवर मेडन किए थे। सिराज ने आरसीबी की अधिकारिक वेबसाइट को दिए इंटरव्यू में कहा कि बुधवार को मैच से एक दिन पहले उनके पिता को सांस लेने में दिक्कत के कारण अस्पताल में एडमिट कराया गया। ऐसे में वह मैच से पहले काफी टेंशन में थे। वहीं मैच खत्म होने के बाद जब उनकी घर पर बात हुई तो, उनके पिता घर आ चुके थे और वह उनके प्रदर्शन से काफी खुश थे।

पिता चलाते हैं ऑटो

सिराज ने कहा - पहले टेनिस बॉल से खेलते थे। प्रफेशनल क्रिकेट के बारे में कुछ भी पता नहीं था। और न ही इन स्विंग और आउट स्विंग के बारे में ही जानते थे। बस केवल एक ही चीज पता था, कि क्रिकेट खेलना है और अपना शत प्रतिशत देना है। पिता ऑटो चलाते थे। बड़ा भाई इंजीनियरिंग कर रहा था। वह केवल क्रिकेट खेलने पर ही ध्यान देते थे। उनकी मां हमेशा कहती थी, कि बाद में ये मत कहना कि नहीं पढ़ाया। उन्हें केवल क्रिकेट ही खेलना था। सुबह- शाम क्रिकेट ही खेलते रहते थे।

इनाम के तौर पर मिला था 500 रुपए

एक दिन उनके मामा ने उन्हें वनडे लीग खेलने को लेकर गए थे। वहां उन्होंने एक इनिंग में 9 विकेट लिए। पहली बार इनाम के तौर पर 500 रुपए मिले। उनके पिता उन्हें ऑटो चालने के बाद भी 70 रुपए पॉकेट मनी देते थे। उसमें से 60 रुपए खर्च बाइक के तेल में हो जाता था। उनके पास केवल10 रुपए ही बचते थे।

बाइक को धक्के मारकर घर ले गए

सिराज ने बताया कि एक बार वह रणजी के लगे कैंप के लिए गए थे। जब वह स्टेडियम से निकलकर बाइक स्टार्ट कर रहे थे तो किक टूट गई। उनके साथी खिलाड़ी कार से आते थे। उन्हें बाइक को धक्के देकर लेकर जाना अच्छा नहीं लगा तो वह कुछ देर इंतजार किया, ताकि सभी साथी खिलाड़ी चले जाए। उसके बाद वे बाइक को धक्के मारकर घर लेकर गए और साथी से पैसे मांगकर बाइक को बनवाया।

भरत अरूण ने पहचानी प्रतिभा

सिराज ने बताया कि रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरु के कोच भरत अरूण ने उनके करियर को संवारा है। उनके मार्गदर्शन के कारण ही वह इंडिया खेल पाए। उन्होंने कहा कि वह इंडिया के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी से वह खासे प्रभावित है। धोनी ने कहा कि दूसरों की प्रतिक्रिया पर ध्यान न दें। केवल अपना खेल पर ही ध्यान दे।

No ad for you

Copyright © 2020-21 DB Corp ltd., All Rights Reserved

This website follows the DNPA Code of Ethics.