Advertisement

Dainik Bhaskar Brings you the latest Hindi News

क्रिकेट/ दानिश कनेरिया ने स्पॉट फिक्सिंग की बात कबूली, माफी देने की लगाई गुहार

Dainik Bhaskar | Oct 18, 2018, 03:37 PM IST
कनेरिया ने पाकिस्तान की ओर से आखिरी टेस्ट 2010 में ट्रेंट ब्रिज में इंग्लैंड के खिलाफ खेला था। - फाइल

  • 2008 में भारत दौरे में सट्टेबाज अनु भट ने पाकिस्तानी टीम को डिनर दिया था : कनेरिया
  • ईसीबी और आईसीसी ने लगाया रखा है आजीवन प्रतिबंध

लंदन. पाकिस्तान के दानिश कनेरिया ने नौ साल पुराने मामले में आखिरकार स्पॉट फिक्सिंग की बात कबूल ली है। अब से पहले दानिश खुद पर लगे इन आरोपों को झूठ ही करार देते रहे। इंग्लैंड एंड वेल्स क्रिकेट बोर्ड (ईसीबी) और अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) ने दानिश पर पहले से ही आजीवन प्रतिबंध लगा रखा है। हालांकि, अब उन्होंने लोगों से खुद को माफी देने की गुजारिश की है। फिक्सिंग के कारण एसेक्स के पूर्व क्रिकेटर मर्वेन वेस्टफील्ड को जेल भी जाना पड़ा था।Advertisement

मामले में वेस्टफील्ड को हुई थी जेल

  1. वेस्टफील्ड ने कबूला था कि सितंबर 2009 में डरहम के खिलाफ प्रो-40 मैच के एक ओवर में उन्होंने निश्चित रन देने के लिए घूस के तौर पर 6000 पाउंड (करीब पांच लाख 80 हजार रुपए) की रकम स्वीकार की थी।

    Advertisement

  2. ब्रिटिश अखबार डेली मेल की खबर के मुताबिक, दानिश ने अंग्रेजी समाचार चैनल से बातचीत में मैच फिक्सिंग की बात स्वीकारी। दानिश ने कहा, 'मेरा नाम दानिश कनेरिया है और मैं स्वीकार करता हूं कि 2012 में इंग्लैंड एंड वेल्स क्रिकेट बोर्ड की ओर से लगाए गए दो चार्जेस का मैं दोषी हूं।'

  3. दानिश ने कहा, 'मैं अपनी इस गलती के लिए मर्वेन वेस्टफील्ड, एसेक्स के मेरे सभी साथी खिलाड़ियों, मेरे एसेक्स क्रिकेट क्लब, मेरे एसेक्स क्रिकेट फैन्स से माफी मांगता हूं। मैं पाकिस्तान को भी सॉरी कहना चाहता हूं।'

  4. दानिश और वेस्टफील्ड को 2010 में गिरफ्तार किया गया था। दोनों के साथ बुकी अनु भट ने फिक्सिंग के लिए संपर्क किया था। अनु को अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट की वैश्विक संस्था आईसीसी अवैध सट्टेबाजी के मामले में काफी समय से तलाश रही थी। 

  5. कनेरिया ने खुद पर लगे आजीवन प्रतिबंध को हटवाने के लिए कई बार कोर्ट में अपील भी की। हालांकि, ईसीबी और आईसीसी की भ्रष्टाचार रोधी शाखा ने उनके खिलाफ अपने फैसले को बरकरार रखा था। आईसीसी ने दुनियाभर के सभी क्रिकेट बोर्डों को भी अपने फैसला मानने को कहा था। 

Advertisement

Dainik Bhaskar Brings you the latest Hindi News

Recommended

Advertisement