Advertisement

Dainik Bhaskar Brings you the latest Hindi News

डार्क वेब/ 650 रुपए में फेसबुक और 760 रुपए में नेटफ्लिक्स अकाउंट की डिटेल बिक रही

Dainik Bhaskar | Feb 21, 2019, 07:42 AM IST
-- पूरी ख़बर पढ़ें --

  • पिछले साल डेटा लीक के कई मामले सामने आए, हैकर्स अब इस डेटा को डार्क वेब पर बेच रहे
  • डार्क वेब पर अमेजन अकाउंट की डिटेल्स भी 1350 रुपए में बिक रही
  • इस डेटा में लोगों के नाम, पासवर्ड, बैंक डिटेल्स जैसी निजी जानकारी शामिल

Dainik Bhaskar

Feb 21, 2019, 07:42 AM IST

गैजेट डेस्क. डार्क वेब पर लोगों का निजी डेटा बेचे जाने का नया मामला सामने आया है। ब्रिटिश वेबसाइट द सन ने वर्चुअल प्राइवेट नेटवर्क कंपेरिजन सर्विस टॉप10वीपीएन.कॉम के हवाले से बताया कि डार्क वेब पर 6.96 पाउंड (करीब 650 रुपए) में फेसबुक और 8.19 पाउंड (करीब 750 रुपए) में नेटफ्लिक्स अकाउंट की डिटेल्स बेची जा रही है। इसमें यूजरनेम, पासवर्ड, ईमेल और बैंक डिटेल्स जैसी निजी जानकारी शामिल है।

सबसे महंगा डेटा ब्रिटिश एयरवेज का
रिपोर्ट के मुताबिक, डार्क वेब पर ब्रिटिश एयरवेज के ग्राहकों का डेटा सबसे महंगा बेचा जा रहा है। इस डेटा की कीमत 31.94 पाउंड (करीब 3 हजार रुपए) है। ब्रिटिश एयरवेज के 3.80 लाख ग्राहकों का डेटा पिछले साल चुराया गया था। इसके अलावा, अमेजन के यूजर का डेटा 14.50 पाउंड (करीब 1400 रुपए) में बिक रहा है, जिसमें लोगों की क्रेडिट कार्ड डिटेल्स भी शामिल है। बैंक डिटेल्स का इस्तेमाल करने के लिए फेसबुक यूजर्स का डेटा भी डार्क वेब पर बेचा जा रहा है।

इतने में बिक रहा इन वेबसाइट का डेटा

वेबसाइट कीमत
ब्रिटिश एयरवेज 31.94 पाउंड (करीब 3,000 रुपए)
अमेजन 14.53 पाउंड (करीब 1,400 रुपए)
फेसबुक 6.96 पाउंड (करीब 650 रुपए)
उबर 7.61 पाउंड (करीब 700 रुपए)
नेटफ्लिक्स 8.91 पाउंड (करीब 760 रुपए)
ट्विटर

1.54 पाउंड (करीब 150 रुपए)

पिछले साल से महंगा बिक रहा डेटा
टॉप10वीपीएन.कॉम के रिसर्चर सिमोन मिग्लिआनो का कहना है पिछले साल कई बार डेटा लीक के मामले सामने आए थे, जिनमें फेसबुक और ब्रिटिश एयरवेज के ग्राहक सबसे ज्यादा प्रभावित हुए थे। यही वजह है कि इससे ब्लैकमार्केट वेबसाइट पर भारी मात्रा में लोगों का निजी डेटा भर गया है। उन्होंने बताया कि इस साल पिछले साल की तुलना में थोड़ा महंगा डेटा बेचा जा रहा है।

हर अकाउंट का अलग पासवर्ड रखना जरूरी

मिग्लिआनो का कहना है कि आजकल ज्यादातर लोग अपनी बैंक डिटेल्स ऑनलाइन अकाउंट में स्टोर रखते हैं। इसके अलावा सभी अकाउंट के पासवर्ड भी एक ही रखते हैं। इससे हमें आगे तो आसानी होती है, लेकिन इसका सबसे बड़ा नुकसान यह है कि अगर कोई हैकर हमारा अकाउंट हैक करता है तो उसे दूसरे अकाउंट का एक्सेस भी मिल जाता है। उन्होंने कहा कि अलग-अलग वेबसाइट के लिए हमें अलग-अलग पासवर्ड रखना चाहिए। इसके अलावा अगर पब्लिक वाई-फाई का इस्तेमाल कर रहे हैं तो भी सावधानी बरतनी चाहिए। उन्होंने कहा कि हमेशा टू-फैक्टर ऑथेंटिकेशन एक्टिव रखना चाहिए।