एक्सपर्ट एडवाइस / फिलहाल अच्छी कारोबारी संभावनाओं वाली कंपनियों के शेयरों में निवेश करें

Dainik Bhaskar

Sep 13, 2019, 12:32 PM IST

यूटिलिटी डेस्क. किसी भी देश के शेयर बाजार आम तौर पर उसकी अर्थव्यवस्था किस तरह का प्रदर्शन कर रही है इसकी झलक दिखलाते हैं। शॉर्ट टर्म में शेयर बाजार सेंटीमेंट और डिमांड/सप्लाई के कारकों से प्रभावित हो सकते हैं। लेकिन लॉन्ग टर्म में शेयर बाजार बुनियादी कारकों के आधार पर चलते हैं। एक स्थिर सरकार आर्थिक सुधारों और कारोबारी गतिविधियों में सुधार के लिए तेजी से फैसले ले सकती है। ऐसे निर्णय बाजार के लिए सकारात्मक होते हैं। केंद्रीय बजट में सरकार द्वारा किए आर्थिक सुधारों, टैक्स रिफॉर्म का ऐलान किया। हाल में सरकारी बैंकों के विलय का भी निर्णय लिया है। ऐसे फैसले बाजार पर व्यापक सकारात्मक असर डालते हैं।


भारत में खपत बहुत अधिक है। यहां सिर्फ खाद्यान्न उत्पादन तक सीमित नहीं है; एजुकेशन, हेल्थकेयर, बिजली, ऑटो, दूरसंचार जैसे कई उद्योग क्षेत्र हैं जहां खपत बहुत अधिक है। लेकिन इनकी डिमांड और सप्लाई के बीच अंतर बहुत अधिक है। इन क्षेत्रों में कारोबार की कई संभावनाएं हैं। कर्ज आसानी से मिलने पर इन क्षेत्रों का उत्पादन बढ़ेगा। इससे न सिर्फ इन क्षेत्र की कंपनियों का रेवेन्यू और मुनाफा बढ़ेगा। बल्कि नई नौकरियां और रोजगार पैदा होने से लोगों की खर्च करने की ताकत भी बढ़ेगी। कंपनियों की ओर से अच्छे वित्तीय आंकड़े पेश करने के साथ इनके शेयरों में तेजी देखने को मिलेगी। छोटे निवेशकों को गिरते बाजार में कम भाव पर अच्छी कारोबारी संभावनाओं वाली कंपनियों के शेयरों में निवेश करना चाहिए। हालात सुधरने पर एजुकेशन, हेल्थकेयर, बिजली, ऑटो जैसे विभिन्न कारोबारी संभावनाओं वाले क्षेत्र के शेयरों मेंनिवेश से अच्छा मिल सकता है। अमेरिका-चीन के बीच ट्रेड वॉर न भारतीय शेयर बाजारों को, बल्कि विश्व अर्थव्यवस्था को भी प्रभावित कर रहा है। यह घटनाक्रम शेयर बाजारों को शॉर्ट टर्म में ही प्रभावित करेगा। लॉन्ग टर्म में इसका शेयर बाजारों पर बहुत मामूली असर होगा।


अमेरिका-चीन ट्रेड वॉर घरेलू कंपनियों के लिए बड़ा मौका
रिपोर्ट्स के मुताबिक अमेरिका-चीन के बीच जारी ट्रेड वॉर के चलते कई मल्टीनेशनल कंपनियां चीन से अपना उत्पादन अन्य देश में शिफ्ट करने का मन बना रही हैं। यहां भारत के लिए बड़ा मौका बन रहा है। यदि ये कंपनियां अपनी उत्पादन गतिविधियों को भारत में शिफ्ट करती हैं तो उनसे जुड़ी कंपनियों के शेयरों में जी तेजी देखने को मिलेगी।

Share
Next Story

SBI / फिक्स्ड डिपॉजिट पर नई ब्याज दरें लागू, अब कम होगा फायदा

Next

Dainik Bhaskar Brings you the latest Hindi News

Recommended News