ब्रिटेन / पढ़ाई के बाद भारतीय छात्रों को मिलेगा 2 साल का वर्क वीजा

Dainik Bhaskar

Sep 12, 2019, 12:22 PM IST

यूटिलिटी डेस्क. ब्रिटेन में पढ़ाई कर रहे भारतीय स्टूडेंट्स को यूके सरकार से बड़ी खुशखबरी मिली है। अब वे पढ़ाई पूरी करने के बाद भी 2 साल तक ब्रिटेन में फ्री वर्क वीजा पर नौकरी कर सकेंगे। ब्रिटेन सरकार ने ब्रिटिश यूनिवर्सिटी में पढ़ने वाले सभी विदेशी स्टूडेंट्स के वर्क वीजा को 2 साल का विस्तार देना का फैसला किया। साथ ही ब्रिटेन सरकार ने कहा कि सरकार इस पर भी विचार कर रही है कि कैसे वीजा की आवेदन प्रक्रिया और स्टूडेंट्स के रोजगार से संबंधित प्रक्रिया को ज्यादा बेहतर बनाया जा सके। मौजूदा नियम के तहत विदेशी छात्रों को ग्रेजुएशन करने के बाद सिर्फ चार माह तक ब्रिटेन में रहने की इजाजत है।

लगातार गिर रहीं है विदेशी स्टूडेंट्स की संख्या

ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ने इस बारे में नीति की फिर से प्रभावी शुरुआत करने के बाद कहा कि बदलाव से स्टूडेंट्स को ब्रिटेन में अपना करियर शुरू करने के लिए 'अपनी प्रतिभा को एक्सप्लोर' करने का अवसर मिलेगा।

जॉनसन की कैबिनेट में सीनियर मेंबर भारतीय मूल की ब्रिटेन की गृह मंत्री प्रीति पटेल ने कहा कि नई स्नातक योजना का अर्थ है कि प्रतिभाशाली अंतरराष्ट्रीय स्टूडेंट ब्रिटेन में पढ़ सकेंगे और अपना सफल करियर बनाने के दौरान उन्हें बहुमूल्य कार्य अनुभव हासिल होगा। उन्होंने कहा कि यह हमारे वैश्विक दृष्टिकोण को दर्शाता है और यह सुनिश्चित करेगा कि हम बेहतरीन एवं प्रतिभाशाली स्टूडेंट्स को अपने यहां ला सकें।

2012 में ब्रिटेन की तत्कालीन गृह मंत्री टेरीजा मे के कार्यकाल के दौरान दो वर्षीय पोस्ट-स्टडी वीजा बंद कर दिया था। इस कदम के बाद ब्रिटेन में भारत जैसे देशों के स्टूडेंट्स की संख्या में बड़ी गिरावट देखी गई थी।

इससे पहले वहां स्टूडेंट अपनी पढाई पूरी होने के बाद दो साल का समय देकर वहां नौकरी ढूंढ कर पढ़ाई का खर्च निकाल लेते थे। उस समय थेरेसा के इस फैसले के साथ वहां 2010- 2011 में जिन भारतीय स्टूडेंट्स की संख्या 39,090 थी वह 2016-2017 में घटकर 16,550 हो गई थी। बोरिस जॉनसन के इस फैसले का विश्वविद्यालयों, छात्र संगठनों, स्टेक होल्डर्स और संसद की विदेश मामलों की समिति ने स्वागत किया है। इन सभी ने वीजा रिटर्न के लिए काफी कैंपेनिंग की थी लेकिन इसे थेरेसा मे द्वारा बार बार रिजेक्ट किया जा रहा था।
Next Story

एमवी एक्ट / बाइक पर गोद में लिए बच्चे को भी माना जा सकता है तीसरी सवारी; हो सकता है चालान

Next

Dainik Bhaskar Brings you the latest Hindi News

Recommended News