NGT का फरमान / तीन महीने के भीतर प्रदूषण फैलाने वाली कंपनियों को करें बंद

Dainik Bhaskar

Jul 17, 2019, 11:41 AM IST

यूटिलिटी डेस्क. नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल (एनजीटी) ने मंगलवार को केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण मंडल (सीपीसीबी) को निर्देश दिया है कि देश में गंभीर रूप से प्रदूषण फैलाने वाले तमाम उद्योगों तीन महीने के भीतर बंद करवाया जाए। एनजीटी ने यह फैसला देते हुए कहा कि लोगों के स्वास्थ्य को दांव पर लगाकर आर्थिक विकास नहीं किया जा सकता। इस फैसले से 'सफेद और हरी' यानी गैर-प्रदूषणकारी इंडस्ट्रीज के संचालन पर कोई असर नहीं पड़ेगा।


एनजीटी ने अपने फैसले में कहा है कि क्रिटीकली पॉल्यूटेड एरिया और सीवियरली पॉल्यूटेड एरिया में मौजूद प्रदूषण फैलाने वाली इंडस्ट्रीज को बंद किया जाना चाहिए। एनजीटी चेयरपर्सन जस्टिस आदर्श कुमार गोयल ने सीपीसीबी को निर्देश दिया है कि वह राज्यों के प्रदूषण नियंत्रण मंडलों के साथ मिलकर आकलन करे कि इन क्षेत्रों में प्रदूषण फैलाने वाली इकाइयों ने पिछले पांच साल में कितना प्रदूषण फैलाया है? और उसके लिए इनसे कितना मुआवजा लिया जाना चाहिए। मुआवजे में प्रदूषण मुक्त बनाने में लगने वाली राशि और सेहत व पर्यावरण को हुए नुकसान को शामिल किया जाएगा।


डीएम करेंगे बॉयो वेस्ट की निगरानी: एनजीटी
एनजीटी ने सभी डीएम को निर्देश दिया है कि वे महीने में दो बार बॉयो-मेडिकल वेस्ट मैनेजमेंट नियमों की निगरानी करें। एनजीटी ने जिला कमेटी की निगरानी में जिला पर्यावरण योजना होनी चाहिए।

Next Story

काम की बात / हवाई जहाज से नेपाल जाने के लिए आधार कार्ड नहीं हो सकता वैध दस्तावेज

Next

Recommended News