Dainik Bhaskar Brings you the latest Hindi News

माया-मुलायम एक मंच पर / गेस्ट हाउस कांड के 24 साल बाद सपा-बसपा गठबंधन पर माया बोलीं- मुश्किल फैसले लेने पड़ते हैं

  • सपा-बसपा गठबंधन होने के बाद पहली बार मुलायम और मायावती ने संयुक्त प्रचार किया
  • मुलायम ने सपा कार्यकर्ताओं सेकहा- मायावती का हमेशा सम्मान करना
  • उन्होंने कहा- जब भी समय आया, मायावती ने हमारा साथ दिया

Dainik Bhaskar

Apr 19, 2019, 09:49 PM IST

मैनपुरी. उत्तर प्रदेश में 24 साल बाद सपा नेता मुलायम सिंह यादव और बसपा प्रमुख मायावती एक मंच पर नजर आए। मैनपुरी में दोनों दलों की संयुक्त रैली में मायावती ने मुलायम के लिए प्रचार किया। मायावती ने कहा- मुलायम सिंह जी असली, वास्तविक हैं। वे भाजपा की तरह नकली या प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तरह फर्जी रूप से पिछड़े वर्ग के नहीं हैं। लखनऊ में 2 जून 1995 को हुए वीआईपी गेस्ट हाउस कांड का जिक्र करते हुए मायावती ने कहा- कभी-कभी हमें देश, जनता और पार्टी के हित को ध्यान में रखते हुए मुश्किल फैसले लेने पड़ते हैं।

गेस्ट हाउस कांड के बाद सपा-बसपा का गठबंधन खत्म हो गया था। तब लखनऊ के वीवीआईपी गेस्ट हाउस में सपा कार्यकर्ताओं ने कथित तौर पर मायावती के साथ अभद्रता की थी। इसके बाद से मुलायम और मायावती कभी आमने-सामने नहीं आए।

बहुत दिनों बाद साथ आने के लिए मायावती का अभिनंदन- मुलायम

मुलायम सिंह ने इस रैली में मायावती का आभार जताया। कहा- बहुत दिनों बाद साथ आने के लिए मायावतीजी का अभिनंदन करता हूं। उम्मीद है कि सपा-बसपा का गठबंधन राज्य में भारी मतों से जीतेगा। आज मायावतीजी आई हैं। उनका हम स्वागत करते हैं, आदर करते हैं। मायावती जी का बहुत सम्मान करना हमेशा, क्योंकि समय जब भी आया है, मायावती जी ने हमारा साथ दिया है। हमें खुशी है कि हमारे समर्थन के लिए वे आईं हैं।

चौकीदारी की नाटकबाजी भी मोदी को नहीं बचा पाएगी- मायावती

  • मायावती ने कहा, "नकली पिछड़ा व्यक्ति कभी भी देश भला नहीं कर सकता। नकली पिछड़े लोगों से धोखा खाने की जरूरत नहीं है। असली-नकली कौन है, इसकी पहचान कर ही अपने गठबंधन को कामयाब बनाना है। पिछड़ों के असली नेता मुलायम जी को ही चुनकर भेजना है।'
  • "आजादी के बाद काफी लंबे समय तक देश में ज्यादातर सत्ता कांग्रेस और उसके बाद भाजपा या अन्य पार्टियों के हाथ में रही। भाजपा की संकीर्णवादी, सांप्रदायिक नीतियों की वजह से उनकी सरकार वापस चली जाएगी। उनकी चौकीदारी की नाटकबाजी भी नहीं बचा पाएगी।'
  • "मोदी ने पिछले चुनाव में कई चुनावी वादे किए थे। उन्होंने कहा था कि भाजपा के सत्ता में आने के बाद विदेशों में जमा काला धन वापस देश के हर व्यक्ति के खाते में 15 लाख रुपए डाले जाएंगे। क्या किसी को भी ये रुपए मिले?'
  • "कांग्रेस पार्टी क्या कर रही है। वे पूरे देश में घूम-घूमकर कह रहे हैं कि सत्ता में आने के बाद गरीबों को आर्थिक मदद की जाएगी। इस थोड़ी सी आर्थिक मदद से आपका भला नहीं होने वाला। हम गरीबों को स्थायी नौकरी देंगे।''

हमें नया प्रधानमंत्री चाहिए-अखिलेश

  • अखिलेश ने कहा, "आज ऐतिहासिक क्षण है। मायावती ने जनता से अपील की है कि नेताजी को बहुमत से जिताएं। मुझे पूरा भरोसा है कि नेताजी ने जिस तरह से हमें जगाने का काम किया, उन्हें मैनपुरी की जनता ऐतिहासिक मतों से जिताने जा रही है।''
  • "इस देश की खेती और किसान आत्मा है। लोगों के रोजगार खत्म हो गए। यह चुनाव दलित, पिछड़े, अल्पसंख्यकों के लिए है। हमें नया प्रधानमंत्री बनाना है। जब नया प्रधानमंत्री बनेगा, तभी देश नया बनेगा। भाजपा ने नोटबंदी-जीएसटी लाकर देश को अंधेरे में डाल दिया।''
  • "अगर ग्रामीण जनता का किसी ने विकास हुआ है तो सपा-बसपा की सरकार ने किया है। हमने दिल्ली पास कर दी। क्या आपका फर्ज नहीं कि सपा-बसपा-रालोद के लिए दिल्ली पास लाकर दिखाएं।''

अजित सिंह नजर नहीं आए

सभामें माया-मुलायम के अलावा अखिलेश यादव भी मौजूद रहे। रालोद प्रमुखअजित सिंह नहीं पहुंच सके। 1995 में सपा-बसपा ने गठबंधन करके विधानसभा चुनाव लड़ा था, इसके बाद गेस्ट हाउस कांड के कारण दोनों दलों में दूरियां हो गईं थीं।

मैनपुरी की सभासे पहले महागठबंधन की तीन रैलियां (सहारनपुर, बदायूं औरआगरा) हो चुकी हैं। इनमें से आगरा की रैली में मायावती चुनाव आयोग की रोक के कारण नहीं पहुंची थीं, उनकी जगह उनके भतीजेआकाश आनंदने सभा को संबोधित किया था।अखिलेश और मायावती आज हीबरेली में भी एक सभा करेंगे।

गठबंधन की संयुक्त रैलियां

20 अप्रैल को रामपुर और फिरोजाबाद में, 25 अप्रैल कन्नौज, 1 मई को फैजाबाद, 8 मई को आजमगढ़, 13 मई को गोरखपुर में गठबंधन की रैली होंगी। लोकसभा चुनाव के लिए महागबंधन की आखिरी रैली16 मई को वाराणसी में होगी। गठबंधन की ओर से 11 सीटों के लिएहो रहीं 11साझा रैलियों में से मैनपुरी, कन्नौज, बदायूं, फिरोजाबाद और आजमगढ़ अभीमुलायम सिंह के परिवार के पास हैं। सहारनपुर और आगरा बसपा के खाते में है।

Share
Next Story

बहराइच / पुलिस लाइन ग्राउंड में वॉक पर गए किशोर के साथ सिपाही ने की गंदी हरकत; पकड़े जाने पर सस्पेंड

Next

Dainik Bhaskar Brings you the latest Hindi News

Recommended News