Dainik Bhaskar Brings you the latest Hindi News

लखनऊ / दसवीं मोहर्रम का जुलूस 'यौमे-आशूरा' निकला

चारो तरफ हुसैन की याद में मातम की आवाजें गूज उठी। हर अजादार मातम-ए-हुसैनी का सोगवार था

एसएसपी कलानिधि नैथानी के नेतृत्व मेंपुराने लखनऊ में जगह-जगह पुलिस फोर्स तैनात रही

Dainik Bhaskar

Sep 21, 2018, 03:31 PM IST

लखनऊ.राजधानीपुलिस केमुस्तैदी के बीच पुराने लखनऊइलाके में 10वीं मोहर्रम 'यौमे-आशूरा' का जुलूस निकाला गया। रंग-बिरंगे ताजिये लेकर जुलूस निकाला गया। चारो तरफ हुसैन की याद में मातम की आवाजें गूज उठी। हर अजादार मातम-ए-हुसैनी का सोगवार था। इस दौरान एसएसपी कलानिधि नैथानी के नेतृत्व मेंजगह-जगह भारी पुलिस फोर्स तैनात रही। जवानों ने कई रूटों पर मार्च करके हालात का जायजा भी लिया। 10वीं मुहर्रम जुलूस मेंएसएसपी ने 50 बॉडी वार्न कैमरों सिपाहियों के साथ रूटमार्च किया।

जुलूस विक्टोरिया स्ट्रीट से अकबरी गेट, नक्खास व बिल्लौचपुरा होता हुआ गिरधारी सिंह इंटर कालेज, मंसूर नगर तिराहा शिया यतीम खाना होता हुआ दरगाह हजरत अब्बास पहुंचा। इस दौरान अजादारों ने मातम कर करबला के शहीदों को पुरसा दिया।

ताजिया निकालना
आशुरा के दिन सुन्नी समुदाय का एक पंथ जुलूस की शक्ल में ताजिया निकालता है। ताजिया बांस, कागज, स्टील, लकड़ी और चांदी से बनाया जाता है। ताजिया इमाम हुसैन की कब्र की नकल होता है। ताजिये का जुलूस इमामबाड़ा से सुबह के समय निकलता है और कर्बला (हर शरह में कर्बला नाम का एक स्थान होता है।) में पहुंचकर खत्म हो जाता है। कर्बला में ताजिये को दफना दिया जाता है। यह कार्यक्रम सुबह में शुरू होकर शाम तक समाप्त हो जाता है।

क्यों मनाया जाता है मोहर्रम
मोहर्रम के महीने में इस्लाम धर्म के संस्थापक हजरत मुहम्मद साहब के छोटे नवासे इमाम हुसैन और उनके 72 साथियों को इराक के बयाबान में जालिम यजीदी फौज ने शहीद कर दिया था। हजरत हुसैन इराक के शहर करबला में यजीद की फौज से लड़ते हुए शहीद हुए थे।

अफ़वाह फ़ैलाने वालों पर नज़र :10वी मोहर्रम के अवसर पर जुलूस के दौरान ट्विटर, व्हाट्सएप, समेत अन्य सोशल मीडिया पर नजर रखने के लिए वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक ने सोशल मीडिया मॉनिटरिंग सेल गठित की गई हैं, ताकि सोशल मीडिया पर किसी प्रकार की अफवाह फैलाने वालों पर कड़ी नजर रखी जा सके व किसी प्रकार का कोई माहौल ना बिगड़े अगर कोई भी किसी तरह की अफवाह व माहौल खराब करने की कोशिश करता है तो उसके विरुद्धकार्यवाही जायेगी।

Share
Next Story

गलती / यूपी की किताबों में छपी पूर्व प्रधानमंत्री अटल विहारी की गलत जन्मतिथि, गलती सुधारने के हुए आदेश

Next

Dainik Bhaskar Brings you the latest Hindi News