Advertisement

Dainik Bhaskar Brings you the latest Hindi News

कवायद/ प्रदेश में एक लाख सिपाहियों की भर्ती का रास्ता साफ, एक नवंबर से शुरू होगी प्रक्रिया

प्रतीकात्मक इमेज

  • गृह सचिव व डीजीपी ने प्रेस कांफ्रेंस कर दी जानकारी
  • 51, 216 सिपाही, 3668 जेल वार्डर और 1924 फायरमैन होंगे भर्ती

Dainik Bhaskar

Oct 18, 2018, 02:36 PM IST

लखनऊ. प्रदेश सरकार ने यूपी पुलिस में करीब एक लाख सिपाहियों की भर्ती का रास्ता साफ कर दिया है। प्रमुख सचिव गृह अरविंद कुमार ने गुरुवार को ऐलान किया कि 56, 808 सिपाहियों की भर्ती एक नवंबर से शुरू हो जाएगी। प्रदेश के गृह सचिव अरविंद कुमार और डीजीपी ओपी सिंह ने लखनऊ में गुरुवार को संयुक्त प्रेस कांफ्रेंस में बताया कि 56,808 सिपाहियों की भर्ती का जून, 2019 के तीसरे हफ्ते फाइनल रिजल्ट आ जाएगा। इस भर्ती में 51, 216 सिपाही, 3668 जेल वार्डर और 1924 फायरमैन भर्ती होंगे।


सिर्फ लिखित परीक्षा, इंटरव्यू नहीं: प्रमुख सचिव ने बताया कि 4, 5 जनवरी को नई भर्ती की परीक्षा होगी। इस भर्ती का रिजल्ट जून 2019 के तीसरे हफ्ते में आएगा। भर्ती में आरक्षण के नियम लागू होंगे। इसमें सिविल पुलिस में 20 प्रतिशत पद महिलाओं के लिए आरक्षित होंगे। फायरमैन के 1924 पदों पर भर्ती के लिए 5 नवंबर को विज्ञापन जारी किया जाएगा। अगले साल जुलाई में फायरमैन का फाइनल रिजल्ट आएगा। कारागार विभाग में 3638 वार्डर पद पर भर्ती होगी। इसी में 280 पदों पर घुड़सवार पुलिस में भर्ती होगी। भर्ती प्रक्रिया में सिर्फ लिखित परीक्षा होगी।  उन्होंने कहा कि भर्ती एजेंसियों के माध्यम से की जाएगी। परीक्षा के दौरान मजिस्ट्रेट और पुलिस बल भी तैनात किए जाएंगे। यही नहीं कोई गड़बड़ी न हो, इसके लिए एसटीएफ भी भर्ती परीक्षा पर नजर रखेगी।


42 प्रतिशत पुलिस की कमी: डीजीपी ओपी सिंह ने बताया कि प्रदेश में इस समय 42 प्रतिशत सिपाहियों की कमी है। यूपी पुलिस में 97 हज़ार सिपाहियों की कमी है। 4 जनवरी से 10 जनवरी तक इन भर्तियों की परीक्षा होगी। उन्होंने कहा कि जून, जुलाई 2019 तक यूपी पुलिस के कुल 97 हज़ार सिपाहियों की भर्ती हम पूरी कर लेंगे। डीजीपी ने कहा कि इस भर्ती में 25 से 30 लाख आवेदन आने की संभावना है। 

 

दो नए ट्रेनिंग सेंटर दिवाली बाद खुलेंगे: प्रदेश में इस समय 29 हज़ार सिपाही ट्रेनिंग कर रहे हैं। वहीं 3828 पीएसी के सिपाही ट्रेनिंग कर रहे हैं। सिर्फ 6 हज़ार सिपाहियों की ट्रेनिंग की परमानेंट व्यवस्था है। बाकी सिपाहियों की अन्य राज्यों में ट्रेनिंग करवाई जाएगी। डीजीपी ने बताया कि दिवाली बाद दो नए ट्रेनिंग सेंटर खुलेंगे। एक सुल्तानपुर में दूसरा जालौन में बनकर तैयार हो गया है। 


बेहतर पुलिसिंग सरकार की प्राथमिकता: गृह सचिव ने कहा कि वर्तमान सरकार की प्राथमिकता बेहतर पुलिसिंग है। इसके लिए भर्ती, शस्त्र स्तर पर काम हो रहा है। संख्या बल बढाना अहम प्राथमिकता है, इसलिए भर्ती जरूरी है। कम फोर्स की वजह से छुट्टी, ज्यादा काम, तनाव होता है। उन्होंने कहा कि हमारे पास मैन पॉवर की कमी है। मैन पॉवर की कमी के चलते ट्रेनिंग भी नहीं हो पाती है। वर्तमान में हमारे पास 2.29 लाख पुलिस, पीएसी की उपलब्धता है। 32 हज़ार सिपाही ट्रेनिंग कर रहे हैं। 

हमारे पास 97 हज़ार सिपाहियों की कमी है, जिसे हम इन दो भर्तियों से पूरा कर लेंगे। 

 

इसके अलावा प्रदेश में 37 हज़ार पुलिसकर्मियों के प्रमोशन हुए, जिसमें कांस्टेबल, हेड कांस्टेबल, सब इंस्पेक्टर, इंस्पेक्टर हैं। हम प्रमोशन, भर्ती दोनों पर ध्यान दे रहे हैं। जेल वार्डर के 50 प्रतिशत पद खाली हैं, फायरमैन के 37 प्रतिशत पद खाली हैं।

Recommended