Advertisement

Dainik Bhaskar Brings you the latest Hindi News

गलती/ यूपी की किताबों में छपी पूर्व प्रधानमंत्री अटल विहारी की गलत जन्मतिथि, गलती सुधारने के हुए आदेश

अब नए निर्देश के अनुसार सभी किताबों की प्रूफरीडिंग और स्क्रूटनी होगी।

  • अटल की जन्मतिथि 25 दिसंबर 1924 की जगह 2 दिसंबर 1924 छपा
  • यह तब है जब राज्य सरकार अटल के जन्मदिन पर तमाम कार्यक्रमों का आयोजन कर रही है

Dainik Bhaskar

Sep 20, 2018, 12:55 PM IST

लखनऊ. बेसिक शिक्षा परिषद की छठी क्लास की किताब में पूर्व प्रधानमन्त्री अटल बिहारी वाजपयी की जन्मतिथि 25 दिसंबर की जगह 2 दिसंबर छाप दी गई। गलती सामने आने पर उत्तर प्रदेश सरकार ने इसे सुधारने के लिए निर्देश जारी किए हैं। 

 

क्या है मामला: दरअसल, छठी क्लास की किताब मंजरी के पाठ 21 में 'आओ फिर से दिया जलाएं' में अटल बिहारी वाजपेयी की जन्मतिथि 2  दिसंबर 1924 छाप दी है। स्कूलों में किताबें बंट चुकी है और पढ़ाई भी जा रही है। मामला सामने आने पर बेसिक शिक्षा परिषद् की सचिव रूबी सिंह ने सभी बेसिक शिक्षा अधिकारियों को पत्र लिखकर प्रधानाध्यापकों द्वारा इसे सुधारने का निर्देश दिया गया है। वहीं इस मामले में किस स्तर पर लापरवाही हुई है इसकी जांच कर दोषियों पर कार्यवाई की जाने की तैयारी की जा रही है। 

 

अब सभी किताबों की होगी स्क्रूटनी: दरअसल, बेसिक शिक्षा परिषद् स्कूलों में राज्य शैक्षिक अनुसंधान एवं प्रशिक्षण परिषद् के तैयार किए गए सिलेबस से पढाई होती है। राज्य शिक्षा संस्थान के पास प्रूफ रीडिंग का जिम्मा होता है। माना जा रहा है कि प्रकाशक को ही गलत तथ्य दिए गए थे। हालांकि मामला संज्ञान में आने के बाद अपर मुख्य सचिव प्रभात कुमार ने राज्य शैक्षिक अनुसंधान एवं प्रशिक्षण परिषद को निर्देश दिया है कि सभी किताबों की प्रूफ रीडिंग और स्क्रूटनी दोबारा करवा ले। यह इसलिए ताकि बच्चों तक सही जानकारी पहुंचे।