करवा चौथ / छलनी से क्यों देखें जाते हैं चंद्रमा और पति
1K views
Oct 17,2019 11:36 AM IST

हिंदू धर्म में हर पर्व व व्रत के साथ कई परंपराएं देखने को मिलती हैं। इनमें से कुछ परंपराओं का वैज्ञानिक पक्ष होता है, कुछ का धार्मिक तो कई परंपराओं का मनोवैज्ञानिक पक्ष भी होता है। करवा चौथ पर छलनी से चंद्रमा व पति को देखकर पूजन करने के पीछे भी मनोवैज्ञानिक पक्ष ही निहित है। परंपरा के अनुसार करवा चौथ का पूजन करते समय सर्वप्रथम विवाहित महिलाएं छलनी से चंद्रमा को देखती हैं व बाद में अपने पति को। ऐसा करने के पीछे कोई वैज्ञानिक तर्क नहीं होता, बल्कि पत्नी के हृदय की एक भावना होती है। पत्नी जब छलनी से अपने पति को देखती है तो उसका मनोवैज्ञानिक अभिप्राय यह होता है कि मैंने अपने हृदय के सभी विचारों व भावनाओं को छलनी में छानकर शुद्ध कर लिया है, जिससे मेरे मन के सभी दोष दूर हो चुके हैं और अब मेरे हृदय में पूर्ण रूप से आपके प्रति सच्चा प्रेम ही शेष है। यही प्रेम मैं आपको समर्पित करती हूं और अपना व्रत पूर्ण करती हूं।

कुछ ख़ास

पॉपुलर वीडियो

ट्रेंडिंग वीडियोऔर देखें

इंटरेस्टिंग वीडियोऔर देखें

टिप्स & ट्रिक्स और देखें

बॉलीवुड वीडियोऔर देखें

राज्य वीडियोऔर देखें