पौने दो घंटे पुलिस को छकाते रहे राहुल गांधी, ‘श्रीराम’ लिखी बाइक पर की सवारी

5 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
नीमच/इंदौर.  किसान आंदोलन में पुलिस की गोलियों से मारे गए किसानों के परिजनों से मिलने मप्र आए कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी पुलिस प्रशासन को मोटरसाइकिल पर बैठकर पौने दो घंटे तक छकाते रहे। इस तरह चला हाईप्रोफाइल ड्रामा...
 
 
-राजस्थान बॉर्डर के पहले गांव निंबाहेड़ा से दो किमी पहले मड्डा चौराहे पर राहुल ने कार छोड़ दी।
-भीलवाड़ा विधायक धीरज गुर्जर ने उन्हें बाइक पर बैठाया और मप्र की ओर बढ़ गए। बाइक बिना नंबर की थी। उस पर श्रीराम लिखा था। लेकिन रास्ता भटकने से वह वापस निंबाहेड़ा सिटी में प्रवेश कर गए।
-वहां से फिर मप्र की ओर बढ़े। रास्ते में राहुल राऊ विधायक जीतू पटवारी की बाइक पर बैठ गए।
-बाइक पर राहुल के सुरक्षा गार्ड भी थे। जीतू के साथ वे राजस्थान-मध्यप्रदेश की बॉर्डर पर स्थित बांगेड़ा चौकी तक पहुंचे।
-यहां पुलिस ने सबको रोक दिया लेकिन राहुल पैदल आगे बढ़ गए।
 
मधुमक्खियों ने राहुल सहित कांग्रेस नेताओं को काटा
-करीब 9 किमी बाइक पर और 3 किकिलोमीटर चलकर मप्र के नयागांव बैरियर पहुंचे।
-यहां रोकने की कोशिश हुई तो वे खेत में चल दिए। खेत में एक पेड़ के नीचे खड़े हो गए।
-पेड़  हिला तो वहां लगे छत्ते पर बैठीं मधुमक्खियां उड़ने लगीं। मधुमक्खियों ने राहुल सहित कांग्रेस नेताओं को काट लिया।
-पुलिस ने यहीं राहुल को गिरफ्तार कर लिया। 
-पांच किमी दूर सीमेंट फैक्टरी के गेस्ट हाउस में ले जाया गया।
 
250 नेताओं को राजस्थान ले जाकर छोड़ा गया
-इसी बीच, पूर्व सांसद मीनाक्षी नटराजन पीड़ित किसानों को लेकर आ गईं। दो घंटे इंतजार के बाद भी उन्हें राहुल से नहीं मिलने दिया गया।
-शाम 5.30 बजे राहुल सहित करीब 250 नेताओं को राजस्थान ले जाकर छोड़ा गया।
-निंबाहेड़ा के कल्लाजी वेद पीठ में पांचों मृत किसानों के परिजनों से करीब 7 मिनट तक उन्होंने बात की।
 
आगे की स्लाइड्स में देखें, फाेटो...
खबरें और भी हैं...