पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

तस्वीरों के जरीए जानिए एक ऐसी त्रासदी जो पूरी दुनिया आज भी नहीं भूल पाती

8 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

भोपाल। 02 दिसंबर 1984 का काला इतिहास शायद कोई भूल ना सकेगा। आधी रात जब लोग गहरी नींद में सो रहे थे अचानक उनका दम घुटना शुरू हो गया। कुछ पल बिता शहर कि कई सड़कें, कई गलियां, कई घर लाशों से पट पड़े थे। यहां के सबसे बड़े अस्पताल में घायल और लाश में अंतर करना मुश्किल हो रहा था। आनन-फानन में पोस्टमार्टम हो रहे थे और लाशों को ले जाने के लिए ट्रक भी खड़े हो गए। अगली सुबह एक साथ हजारों लोगों की अर्थियां निकली और अंतिम संस्कार हुआ।

यह भयावह दृश्य था गैस त्रासदी का। इस दिन विश्व की सबसे बड़ी औद्योगिक त्रासदी भोपाल गैसकांड की घटना हुई थी। जिसने पूरी दुनिया को हिलाकर रख दिया था, जिसने देखते ही देखते ही हजारों लोगों को मौत की आगोश में ले लिया था। जो बचे वो संक्रमण से इस कदर प्रभावित हुए कि उन्हें विकालांग की जिंदगी बितानी पड़ी। 29 साल पहले के उस भयावह हादसे के घटनाक्रम को फिर से याद करने पर भुक्तभोगियों की आंखें डबडबा जाती हैं, हम उस रात के दृश्य को बताने की कोशिश कर रहे हैं।

02 दिसंबर की आधी रात इस फैक्ट्री से मिथाइल आइसोनेट (एमआईसी) का रिसाव हुआ और हजारों जिंदगी काल की गाल में समा गई। भोपाल गैस त्रासदी के 29 साल पूरे हो रहे हैं। इस मौके पर dainikbhaskar.com बता रहा उसी गैस त्रासदी से जुड़ी कुछ खास बातें।

स्लाइड क्लिक कर देखें तस्वीरें और जानें पूरा मामला...