पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Bhopal
  • ....और 6 घंटे में छूट गया, हजारों लोगों का हत्यारा

....और 6 घंटे में छूट गया, हजारों लोगों का हत्यारा

7 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

यूनियन कार्बाइड का चेयरमैन वारेन एंडरसन किन परिस्थितियों में गिरफ्तार हुआ और कैसे हाई-प्रोफाइल ड्रामे के बाद सिर्फ 6 घंटे में ही छूट गया.. पढि़ए 'किलिंग विंड' के चुनिंदा अंश..!!


भोपाल। यूनियन कार्बाइड के चेयरमेन वारेन एंडरसन और उसके सहयोगियों को लेकर मुंबई से इंडियन एयर लाइंस का विमान 7 दिसंबर की सुबह 9.35 बजे बैरागढ़ एयरपोर्ट पहुंचा। विमान में दो अधिकारी मौजूद थे, उनमें से एक ने एंडरसन, महिंद्रा और गोखले का नाम पुकारा और उनसे पहले उतरने को कहा। पुलिस अधीक्षक स्वराज पुरी और कलेक्टर मोती सिंह ने आगंतुको की अगवानी की।


सफेद एंबेसडर कार में उन्हें लेकर पुलिस अधिकारी यूनियन कार्बाइड गेस्ट हाउस की ओर चल पड़ी। एंडरसन ने खिड़की से बाहर झांका कि गैस त्रासदी के कहीं कोई निशान हों, लेकिन तब तक सड़कों-गलियों से लाशें हटा ली गई थीं। केवल शहर में पसरे भयानक सन्नाटे से ही उसका आभास हो रहा था।

गेस्ट हाउस में एंडरसन और उसके सहयोगियों को वीआईपी के लिए आरक्षित कमरों में ले जाया गया। इतने में एक अधिकारी ने उनसे कहा मुझे आपसे कहते हुए अफसोस है कि आप सभी को गिरफ्तार किया है। महिंद्रा ने लगभग चीखते हुए कहा आप क्या बकवास कर रहे हैं?

ये आरोप तय हुए थे एंडरसन पर: अधिकारी ने उन्हें बताया कि न ही वे कमरा छोड़ सकते हैं, न ही किसी से मिल सकते हैं और न ही फोन का इस्तेमाल कर सकते हैं। करीब 1 घंटे बाद, 11 बजे पुरी और मोती सिंह एक सिटी मजिस्ट्रेट के साथ वहां पहुंचे। एंडरसन के हाथ में आरोपों की सूची थमा दी गई। सूची में गैर-इरादतन आपराधिक नरसंहार, आपराधिक लापरवाही, जिसके कारण नरसंहार हुआ, वातावरण को प्रदूषित कर अस्वास्थ्यकारी हालात पैदा करना, जहरीले पदार्थों को लेकर लापरवाही बरतने के आरोप लिखे गए थे।

एंडरसन ने खुद को इस घटना से दूर रखने को कहा: पुलिस हिरासत में फंसे एंडरसन ने खुद को निर्दोष बताया और कहा कि वह इस त्रासदी के लिए दोषी नहीं है। खाना खाने के बाद एंडरसन आराम करने अपने कमरे में गए। कमरे में पहुंचते ही एंडरसन ने मुंबई स्थित यूसीआईएल के दफ्तर में फोन किया और सारी वस्तुस्थिति बिल क्रॉह्ले को बता दी।

कुछ ही देर में खबर अमेरिकी दूतावास के प्रभारी गॉर्डन स्ट्रीब तक पहुंच गई। जिम बेकर ने उन्हें फोन पर बताया कि एंडरसन, महिंद्रा और गोखले को भोपाल में नजरबंद कर दिया गया है। स्ट्रीब ने फौरन तात्कालिक विदेश सचिव कृष्णन रसगोत्रा को फोन लगाया और हालातों का जायजा लिया। इस पर रसगोत्रा ने स्ट्रीब को जवाब देते हुए कहा कि यह नामुमकिन है, एंडरसन की गिरफ्तारी के कोई आदेश नहीं दिए गए हैं।

उधर तात्कालीन सीएम अर्जुन सिंह एक प्रचार अभियान में हिस्सा लेने के लिए निकले चुके थे। विदेश सचिव कृष्णन रसगोत्रा ने प्रधानमंत्री के करीबी लोगों से बात कर सारा मामला बताया। इस पर सभी वरिष्ठ जनों ने प्रदेश के मुखिया अर्जुन सिंह को इस अंतरराष्ट्रीय समस्या में खुले तौर पर हस्तक्षेप करने के लिए मना किया।

दोपहर करीब 3.30 बजे बड़ी संख्या पुलिस बल गेस्ट हाउस के आस-पास जमा हो गए। इस बीच कुछ लोग एंडरसन के पास पहुंचे और उन्होंने कहा कि वे एंडरसन को लेने आए हैं। हजारों लोगों के कातिल एंडरसन को भोपाल से दिल्ली ले जाने के लिए प्रदेश सरकार के एक विशेष विमान की व्यवस्था की थी।

नाम मात्र की जरूरी कार्यवाही पूरी करने के बाद एंडरसन रिहा होकर मध्यप्रदेश शासन के जहाज में बैठा और दिल्ली के लिए रवाना हो गया। एंडरसन के दिल्ली पहुंचते ही अमेरिकी दूतावास के एक अधिकारी ने एयरपोर्ट पर उनका वेलकम किया। उधर एयरपोर्ट पर किसी को यह जानकारी नहीं थी कि एंडरसन फिर कभी उनके हाथ नहीं आएगा। उस अमेरिकी अधिकारी ने एंडरसन को सीधे एयरपोर्ट से ही अपने साथ अमेरिका ले गया। इस तरह मात्र 6 घंटे में हजारों निर्दोष लोगों का हत्यारा आजाद हो गया।

अगली स्लाइड्स पर देखें तस्वीरें....

0

आज का राशिफल

मेष
मेष|Aries

पॉजिटिव- धार्मिक संस्थाओं में सेवा संबंधी कार्यों में आपका महत्वपूर्ण योगदान रहेगा। कहीं से मन मुताबिक पेमेंट आने से राहत महसूस होगी। सामाजिक दायरा बढ़ेगा और कई प्रकार की गतिविधियों में आज व्यस्तता बनी...

और पढ़ें